कोल्ड स्टोरेज व्यवसाय कैसे शुरू करें: शुरुआती गाइड

Table of Contents

Share this article

कोल्ड स्टोरेज भारत में तेजी से बढ़ने वाला उद्योग है। देश में बढ़ती इसकी मांग, टैक्स में छूट और लाभ का ज्यादा मार्जिन होने के कारण, कोल्ड स्टोरेज का बिज़नस नये व्यापारियों को अपनी ओर खींच रहा है। इस आलेख में, हम आपको भारत में कोल्ड स्टोरेज का बिज़नस कैसे शुरू करें इस बारें में सारी जानकारी देंगे।

भारत में कोल्ड स्टोरेज का बिज़नस

भारत में 2020-2021 तक खाद्यान्न के उत्पादन को 296.65 मिलियन टन दर्ज किया गया था। यह आंकड़ा पिछले वर्षों की तुलना में अधिक था। इतनी अधिक मात्रा में पैदावार होने कि वजह से कटाई के बाद इनको स्टोर करने की भी आवश्यकता होती है। हालांकि, देश में पर्याप्त मात्रा में कोल्ड स्टोरेज सुविधा न होने के कारण, भारत को हर साल 130 अरब रुपये से अधिक के नुकसान का सामना भी करना पड़ रहा है।

नेशनल सेंटर फॉर कोल्ड चेन डेवलपमेंट (एनसीसीडी) द्वारा 2015 के एक किए गए एक अध्ययन के अनुसार कोल्ड चेन सिस्टम का सामाजिक-आर्थिक रूप से गहरा प्रभाव पड़ता है। भारत में किसानों की स्थिरता और विकास के लिए यह चेन बहुत महत्वपूर्ण हैं।

कोल्ड स्टोरेज की सुविधा न होने कि वजह से किसान अपनी फसलों को बिचोलिये को या सस्ते दाम में बेचने पर मजबूर होते हैं। यदि किसान के पास फसल के भंडारण की पर्याप्त सुविधा होगी तो वे, अपनी फसल बेचने के लिए कई बाजारों से जुड़ सकते हैं। इस अध्ययन से यह निष्कर्ष निकाला कि पूरे भारत में एंड-टू-एंड कोल्ड स्टोरेज नेटवर्क बनाने की आवश्यकता है।

भारत में कोल्ड स्टोरेज उद्योग का वर्तमान कारोबार का अभी मूल्य 4 बिलियन डॉलर है, अनुमान के तहत 2021-2025 के दौरान सीएजीआर 17% की दर से बढ़ने की उम्मीद है। 2019 में देश की कोल्ड स्टोरेज की क्षमता करीब 37-39 मिलियन टन थी। कोल्ड स्टोरेज की वजह से हम हर साल खराब होने वाली प्रसंस्कृत वस्तुओं के उत्पादन की तुलना में, हम एक बहुत बड़ा अंतर देख सकते हैं। इस प्रकार, नए व्यापारी और बेरोजगार लोग बड़े पैमाने पर इस बाज़ार का लाभ उठा सकते हैं।

इसे भी पढ़े : भारत में सर्वश्रेष्ठ कोल्ड स्टोरेज कंपनियां

कोल्ड स्टोरेज बिजनेस प्लान

कोल्ड स्टोरेज व्यवसाय को शुरू करना महंगा भी हो सकता है। यदि आप इस व्यापार को शुरू करने के लिए सही योजना और लक्ष्य बनाते हैं, तो यह आपके बिज़नस को सफल होने, और लोन प्राप्त करने में भी मदद दिला सकता है। अधिकांश व्यावसायिक योजनाएँ एक स्टैण्डर्ड टेम्पलेट का पालन करती हैं।

अपना बिज़नस प्लान बनाने के लिए किसी व्यवसाय योजना टेम्पलेट का संदर्भ जरुर लें। हालाँकि, नीचे इसके बारें में जानकारी दी गई है, जिन्हें आपको जरुर पढ़ना चाहिए।

इंडस्ट्री के बारें में अवलोकन

यह आपके बिज़नस प्लान का एक महत्वपूर्ण भाग है। यह आपके बिज़नस प्लान पर रिसर्च और बाजार के बारे में आपकी समझ को दर्शाती है। सबसे पहले आप भारत में किस जगह अपना कोल्ड स्टोरेज का बिज़नस शुरू करना चाहते हैं, इसके बारें में लिखें।

कई प्रकार के अध्ययनों, विश्लेषणों का संदर्भ लें। इसके साथ ही हवा में बातें न करके, हमेशा तथ्यात्मक और सही आंकड़ों का उल्लेख करें।

आप चाहे तो अपने प्रतिस्पर्धियों की भी एक सूची बना सकते हैं। इसके साथ ही इस बिज़नस से कितना राजस्व प्राप्त हुआ है, आप किस प्रकार के बाजार को टारगेट करना चाहते हैं। कैसे ज्यादा से ज्यादा लाभ इसके द्वारा कमा सकते हैं। इन सब के बारे में विस्तार से रिसर्च करें।

कहने का मतलब यह है कि व्यापार की स्थिति और ट्रेंड के बारे में अच्छे से जानकारी ले, फिर उसके बाद आप खुद को कहां रखते हैं। इस बारे में विचार करें। बिज़नस की डेप्थ रिसर्च के लिए, आप बाद में एक अलग से ख़ास मार्केट के बारे में भी रिसर्च को शमिल कर सकते हैं।

स्वॉट एनालिसिस

SWOT का मतलब है (शक्ति, कमजोरी, अवसर और खतरें) । इन सब के बारें में किया गया विश्लेषण आपके व्यवसाय को आगे बढ़ाने के लिए सर्वोत्तम रणनीति है। SWOT विश्लेषण के माध्यम से, आप आसानी से किसी भी व्यवसाय के फायदे और नुकसान का पता लगा सकते हैं। इसी तरह के प्लान पर एनालिसिस करके प्रतिस्पर्धियों की भी सूची बना सकते हैं।

यह चीज आपको वर्तमान में व्यवसाय से सीखने और अपनी योजना में समान रणनीति को शामिल करने में मदद करेगी। सबसे आखिरी में एक SWOT विश्लेषण आपको व्यावसायिक योजना के बारे में तीसरे व्यक्ति के दृष्टिकोण को समझने में भी मदद करेगा।

मार्केटिंग स्ट्रेटेजी

भारत में कोल्ड स्टोरेज की ज्यादा मांग के कारण, इस व्यवसाय को स्थापित करना बहुत अधिक प्रतिस्पर्धात्मक नहीं हो सकता है। हालांकि, अपने बिज़नस को लम्बे समय तक बनाएं रखने और इसके द्वारा लाभ पाने के लिए स्पष्ट मार्केटिंग रणनीति की आवश्यकता होती है। मार्केटिंग रणनीति बनाने का एक आसान तरीका है अपनी यूएसपी (यूनीक सेलिंग पॉइंट) की पहचान करना। क्या आपके कोल्ड स्टोरेज में कई चेंबर, ब्लास्ट फ्रीजिंग और वैल्यू एडेड सेवाएं हैं? अपनी यूएसपी के आधार पर, सही कस्टमर को टारगेट कर सकते हैं।

इस प्रकार, सही तरह से लाभ पाने के लिए अपनी यूएसपी के आधार को ही अपना अभियान बनाएं। अन्य व्यवसायों के विपरीत, कोल्ड स्टोरेज व्यवसाय को मांग और मुनाफे के अनुसार बनाए रखने के लिए समय के साथ विस्तार करने की आवश्यकता होगी। इसलिए, एक शानदार रणनीति होने कि वजह से आपके व्यवसाय को बहुत लाभ होगा और इस पर लोन मिलने की संभावना भी बढ़ जाएगी।

वित्तीय योजना

बजट बनाना व्यवसाय योजना के सबसे महत्वपूर्ण पहलुओं में से एक है। इसमें न केवल सेट-अप और इसे चलाने की लागत ही नहीं बल्कि बिक्री का पूर्वानुमान भी शामिल है। कोल्ड स्टोरेज व्यवसाय स्थापित करने की लागत कई कारकों पर निर्भर करती है – भूमि का आकार, वांछित क्षमता, कक्षों की संख्या, भंडारण का प्रकार आदि। इसलिए, सटीक लागत का विश्लेषण बनाने के लिए हर संभव कारक पर विचार करें। यदि आपने मार्केट का विश्लेषण सही तरीके से किया है, तो बिक्री का पूर्वानुमान लगाना आपके लिए इतना चुनौतीपूर्ण न होगा। अपने कोल्ड स्टोरेज के स्पेसिफिकेशन और करेंट मार्केट को ध्यान में रखते हुए, आपको आने वाले वर्ष के लिए अनुमानित बिक्री के आंकड़ों की गणना करने की आवश्यकता है।

लाइसेंस की आवश्यकता

भारत में कोल्ड स्टोरेज शुरू करने के लिए लाइसेंस प्राप्त करना एक सरल प्रक्रिया है। लाइसेंस के लिए आवेदन करने से पहले आपको यह सुनिश्चित करना चाहिए कि FSSAI (भारतीय खाद्य सुरक्षा प्राधिकरण) के मानदंडों के अनुसार उचित सुरक्षा और स्वच्छता मानकों को पूरा किया गया हो। आपको मुख्य रूप से एक खाद्य सुरक्षा लाइसेंस की आवश्यकता होगी। लाइसेंस प्राप्त करने के लिए, FSSAI वेबसाइट पर जाकर फॉर्म-बी भरें। एक बार आवेदन करने के बाद, आपको लाइसेंस राज्य प्राधिकरण या क्षेत्रीय एफएसएसएआई कार्यालय में भी जमा करना होगा। सुनिश्चित करें कि आपके पास पावती, ऑनलाइन आवेदन पत्र, शुल्क भुगतान प्रमाण और लाइसेंस प्रति हो।

दूसरा, आपको अपने वार्षिक कारोबार के आधार पर राज्य लाइसेंसिंग प्राधिकरण से लाइसेंस की भी आवश्यकता हो सकती है। अगर आपका सालाना टर्नओवर 12 लाख से कम है, तो आपको केवल FSSAI रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट की जरूरत है। हालांकि, 12 लाख से अधिक के कारोबार के मामले में आपको राज्य लाइसेंसिंग प्राधिकरण से लाइसेंस की आवश्यकता होगी।

क्षेत्र/भूमि की आवश्यकता

भूमि क्षेत्र भंडारण क्षमता और संग्रहीत किए जाने वाले उत्पाद के प्रकार पर निर्भर करता है। कोल्ड स्टोरेज इकाइयां आदर्श रूप से खेतों या उपभोक्ता केंद्रों के नजदीक स्थित होनी चाहिए।

ऐसा पहुंच बढ़ाने और रसद की लागत को कम करने के लिए किया जाता है। आवश्यक भूमि को अंतिम रूप देने के लिए, आपको कुल भंडारण क्षमता की पहचान करनी होगी।

उदाहरण के लिए, 5000 मीट्रिक टन क्षमता वाले कोल्ड स्टोरेज की सुविधा के लिए लगभग एक एकड़ भूमि की आवश्यकता होगी। इसलिए एक लाभदायक कोल्ड स्टोरेज सुविधा शुरू करने के लिए आवश्यक न्यूनतम क्षेत्र 1000 वर्ग फुट (0.02 एकड़) है।

प्रत्येक कोल्ड चेंबर के आकार का अनुमान लगाकर गणना करने का एक और तरीका है जिससे आपको पता होगा की आपको कितनी जगह की आवश्यकता है।

यदि आप औसत कोल्ड स्टोरेज के कमरे को 14 फीट x 10 फीट x 10 फीट का आयाम मानते हैं, तो आप अनुमान लगा सकते हैं कि आपको अपनी कुल क्षमता को पूरा करने के लिए कितने कोल्ड रूम की आवश्यकता होगी।

मशीनरी की आवश्यकता

कोल्ड स्टोरेज इकाइयों को स्थापित करने के लिए आवश्यक मशीनरी में मुख्य रूप से कोल्ड रूम रेफ्रिजरेशन सिस्टम शामिल हैं। ये रिफ्रिजरेशन मशीनें, अलग अलग रूम को ठंडा करने के लिए लगाई जाती है।

रिफ्रिजरेशन यूनिट की संख्या और ठंडे कमरों की संख्या, कमरों के आकार और ब्लास्ट फ्रीजिंग जैसे कार्यों पर निर्भर करता है। इसलिए, यदि आप बहुत सारे कोल्ड स्टोरेज इन्फ्रास्ट्रक्चर स्थापित करने का इरादा रखते हैं, तो आपको कई रेफ्रिजरेशन सिस्टम स्थापित करने की आवश्यकता होगी।

कोल्ड स्टोरेज के दो मुख्य प्रकार – फ्रोजन स्टोरेज और रेफ्रिजेरेटेड स्टोरेज। रेफ्रिजरेशन सिस्टम आपकी पसंद को भी प्रभावित कर सकते हैं।

नोट: कई रिफ्रिजरेशन सिस्टम लगाने के साथ साथ आपको, शक्तिशाली सर्वो स्टेबलाइजर्स और बैकअप जनरेटर भी स्थापित करना बहुत जरूरी है।

सर्वो स्टेबलाइजर्स बिजली के खतरों को रोक सकते हैं और बिजली के नुकसान के दौरान आपके रेफ्रिजरेशन सिस्टम की सुरक्षा करते हैं। स्टेबलाइजर्स निरंतर दक्षता बनाए रखने और लागत को कम रखने में मदद करेंगे।

कोर रेफ्रिजरेशन सिस्टम के अलावा, आपको बहुत सारी लॉजिस्टिक मशीनरी की आवश्यकता होगी। इसमें फोर्कलिफ्ट, कन्वेयर बेल्ट सिस्टम, कंट्रोल रूम, सक्रिय कूलिंग ट्रांसपोर्टेशन फ्लीट और रैकिंग के विभिन्न स्तर शामिल हैं। उपरोक्त सभी उपकरणों के साथ, आप पूरी तरह से चालू कोल्ड स्टोरेज प्लांट स्थापित कर सकते हैं।

श्रमशक्ति की जरूरत

यदि आपके पास स्टाफ की कमी है तो कोल्ड स्टोरेज संयंत्रों का प्रबंधन करना मुश्किल हो सकता है। कर्मचारियों द्वारा किया गया सही तरीके से किया गया काम बिज़नस की रीढ़ कि हड्डी बनती है। काम सही तरीके से चलता रहे इसके लिए आपको अपने कर्मचारियों की टीम को निम्नलिखित भूमिकाओं के बारे में बताना होगा :

  • मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) Facility Management Team: सीईओ व्यवसाय के अग्रदूत के रूप में कार्य करेगा। वह बिज़नस का उद्देश्य निर्धारित करेगा, प्रबंधन की देखरेख करेगा, कीमतें तय करेगा, ब्रांड रणनीति बनाएगा और लोगों के साथ संवाद करेगा। इसके साथ ही वो दिन-प्रतिदिन के कार्यों का मूल्यांकन करेगा।
  • सुविधा प्रबंधन टीम(Facility Management Team): यह टीम आपकी सबसे प्रमुख होती है, जो कोल्ड स्टोरेज सही तरीके से चलाने में मदद करती है। फैसिलिटी मैनेजर के नेतृत्व में, यह टीम तकनीकी परेशानी को दूर करने, यंत्रों को सम्हालने और अन्य जरूरी सेवाओं के लिए जिम्मेदार होगी। इस टीम में कितने लोग होंगे यह चीज इस बात पर निर्भर करती हैं की आपके पास कितना सामान हैं, और किस प्रकार कि मशीने आप प्रयोग कर रहे हैं।
  • एचआर और मार्केटिंग टीम (HR & Marketing Team): एचआर (मानव संसाधन) टीम का काम आपकी कम्पनी में कर्मचारियों कि नियुक्ति करना , उनकी परेशानी दूर करना और संगठन के भीतर संचार बनाए रखने और ऑफिस में चीजों की कमियों को दूर करने के लिए जिम्मेदार होती है। दूसरी ओर सेल्स और मार्केटिंग टीम व्यवसाय को बढ़ावा देगी और संभावित लीड का जनरेट करेगी। यह लोग बिज़नस में नेगोशिएशन करने और ग्राहकों के लिए व्यवसाय को अधिक व्यवहारिक बनाने के लिए जिम्मेदार होते हैं।
  • लेखाकार (Accountants): एकाउंटेंट किसी संगठन में पैसो से जुड़े लेनदेन के प्रबंधन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। वे बजट, वित्तीय रिपोर्ट और वित्तीय विवरण तैयार करते हैं। यह लोग वित्तीय पूर्वानुमान, टैक्स प्रबंधन, पेरोल कर्मचारी से जुड़े हुए लेनदेन को संभालते हैं, और कंपनी के लिए एक आंतरिक लेखा परीक्षक के रूप में काम करते हैं।
  • रसद और सुरक्षा (Logistics & Security): यह टीम कम्पनी से माल भेजने के लिए परिवहन की देखरेख करती है। इसमें ट्रक ड्राइवर और फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर शामिल हैं। यह लोग समय पर ग्राहकों को ऑर्डर ले जाकर देते हैं। सुरक्षा दल में सुरक्षा अधिकारी और चौकीदार शामिल होंगे। यह लोग कम्पनी की सम्पत्ति का बाहरी और आंतरिक रूप से होने वाले नुकसान से रक्षा करते हैं, इसके साथ ही कम्पनी में आने वाली गाडियों का प्रबन्धन करते हैं।

कोल्ड स्टोरेज के लाभ

कोल्ड स्टोरेज प्लांट ऑफ-सीजन रिजर्व के रूप में काम करते हैं। यह अर्थव्यवस्था के विकास के लिए आवश्यक हैं। कोल्ड स्टोरेज सुविधा के कुछ प्राथमिक लाभ हैं:

  1. उत्पादों की बढ़ती लाइफ: कृषि उत्पाद खराब होने वाली वस्तुओं की श्रेणी में आते हैं। इसका मतलब है कि फल, सब्जियां और डेयरी जैसे उत्पादों को ज्यादा समय तक बाहर नहीं रख सकते हैं। यदि इन चीजों को निर्धारित समय के अंदर प्रयोग नहीं करते हैं, तो यह खराब होने लगती हैं। इससे काफी नुकसान होता है, कचरा पैदा होता है। इसलिए, इन चीजों को कोल्ड स्टोरेज में रखकर, आप स्वाभाविक रूप से इन्हें लम्बे समय तक सही रख सकते हैं, और भोजन की बर्बादी को रोक सकते हैं।
  2. टीकों का भंडारण: फार्मास्युटिकल उद्योग में कोल्ड स्टोरेज प्लांट बेहद उपयोगी हैं। कुछ टीकों को भंडारण के लिए सब-जीरो तापमान की आवश्यकता होती है। इसलिए, कोल्ड स्टोरेज चेन, वैक्सीन गोदामों के रूप में कार्य करते हैं। जिसकी वजह से टीकों के आगे वितरण में मदद होती है।
  3. ऑफ-सीजन उत्पाद: कोल्ड स्टोरेज की सुविधा उपभोक्ताओं को ऑफ-सीजन में सस्ती दर पर मौसमी फल और सब्जियां खरीदने की भी सुविधा देती है। विदेशी या मौसमी उत्पादों को बड़े पैमाने पर स्टोर करने से मौसम समाप्त होने पर बाजार में उस वस्तु की उपलब्धता को बहाल करने में मदद मिलती है। कोल्ड स्टोरेज यह सुनिश्चित करता है कि आपूर्ति मांग के अनुरूप बनी रहे।

क्या कोल्ड स्टोरेज एक लाभदायक व्यवसाय है?

यदि इसे सही तरीके से मैनेज किया जाता है, तो कोल्ड स्टोरेज सुविधाएं ज्यादा से ज्यादा लाभ मार्जिन प्राप्त कर सकती हैं । जैसा कि ऊपर बताया गया है कि, पूरे भारत में कोल्ड स्टोरेज सुविधाओं की अधिक मात्रा में मांग है। बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए, कोल्ड स्टोरेज एक आकर्षक व्यवसाय मॉडल प्रदान करता है।

भारत कई खाद्य उत्पादों जैसे ब्लूबेरी, आम आदि का निर्यातक है। इसलिए, ऐसे सामानों को लम्बे समय तक सुरक्षित रखने में कोल्ड स्टोरेज महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

निवेश और सब्सिडी (Investment and Subsidies)

एक अनुमान के अनुसार 10 मीट्रिक टन कोल्ड स्टोरेज बनाने के लिए बड़े पैमाने पर निवेश की आवश्यकता होती है। मशीनरी, भूमि, जनरेटर, बिजली, निर्माण, बीमा, कर आदि की लागत को ध्यान में रखते हुए, आपको 15 लाख रुपये तक के निवेश की आवश्यकता होगी। यह एक अनुमानित निवेश है जो भिन्न हो सकता है। हालांकि, कोल्ड स्टोरेज उद्योग को भारी सब्सिडी दी जाती है। इससे निवेश लागत को काफी कमी करने में मदद मिलती है। 15 लाख तक के निवेश के लिए, सही तरीके से बनाया गया कोल्ड स्टोरेज 10 लाख से अधिक की सकल वार्षिक आय भी दे सकता है।

यदि आप कोल्ड स्टोरेज प्लांट स्थापित करना चाहते हैं तो सरकार आपको बहुत सारी मौद्रिक सहायता प्रदान करती है। सरकार परियोजना के कुल खर्च का 40% सब्सिडी देती है। इसमें मशीनरी की लागत पर 50% सब्सिडी शामिल है और उत्तर पूर्वी राज्यों को 75% की सब्सिडी मिलती है। नाबार्ड, एनसीडीसी और आरबीआई भारत में कोल्ड स्टोरेज सुविधाएं स्थापित करने के लिए आसानी से उपलब्ध लोन प्रदान करते हैं।

कोल्ड स्टोरेज प्रशिक्षण और संसाधन

कोल्ड स्टोरेज का बिज़नस करने के लिए, यहां संसाधनों की एक सूची दी गई है। आप इन संसाधनों के माध्यम से उद्योग और व्यवसाय के बारे में ज्ञान जमा कर सकते हैं।

कोल्ड स्टोरेज पर पुस्तकें

  1. वेयरहाउस मैनेजमेंट: ग्विन रिचर्ड्स (अमेज़न) द्वारा आधुनिक वेयरहाउस में दक्षता में सुधार और लागत को कम करने के लिए एक पूर्ण गाइड ( अमेज़ॅन ) पर उपलब्ध है।
  2. एनपीसीएस की ( अमेज़न ) पर एक और किताब है जिसका नाम The Complete Book on Cold Storage, Cold Chain & Warehouse by NPCS (Amazon) है।
  3. कोल्ड स्टोरेज या वेयरहाउस कैसे शुरू करें ( अमेज़न ) How to Start a Cold Storage or Warehouse यह भी अच्छी किताब है।

कोल्ड स्टोरेज के कोर्स

जब कोल्ड स्टोरेज के लिए व्यावसायिक पाठ्यक्रमों की बात आती है, तो भारत में ऐसे कोई भी कोर्स उपलब्ध नहीं हैं। हालांकि, नेशनल सेंटर फॉर कोल्ड-चेन डेवलपमेंट (एनसीसीडी) आपको कोल्ड स्टोरेज को स्थापित करने के लिए प्रशिक्षण प्रदान करता है। यह संगठन वार्षिक प्रशिक्षण कार्यक्रम जारी करता है। आप उसमें अपना एनरोल कर सकते हैं, या फिर ट्रेनिंग लेने के लिए एनसीसीडी से संपर्क कर सकते हैं।

इसके अतिरिक्त, आईआईएम अहमदाबाद द्वारा वेयरहाउस डिजाइन और प्रबंधन में 21-दिवसीय सर्टिफिकेट कोर्स भी एक बढ़िया विकल्प है। यह पाठ्यक्रम आपको वह सब कुछ सिखाएगा, जो कोल्ड स्टोरेज के बिज़नस शुरू करने के लिए जरूरी हैं जैसे – सभी प्रकार के गोदामों के बारे में (कोल्ड स्टोरेज में मशीनों की स्थापना कैसे करें ) इन सब के बारे में जानकारी देता है।

कोल्ड स्टोरेज के विशेषज्ञ और सलाहकार

  1. गुब्बा कोल्ड इंफ्रा (Gubba Cold Infra) – कोल्ड स्टोरेज डिजाइन कंसल्टिंग एंड कंस्ट्रक्शन कंपनी ( वेबसाइट )
  2. हेम्स इंफ्राटेक प्रा। लिमिटेड (वेबसाइट )
  3. नेशनल सेंटर फॉर कोल्ड चेन डवलपमेंट ( एनसीसीडी ) National Center for Cold-Chain Development (NCCD)

निष्कर्ष

कोल्ड स्टोरेज की सुविधा हमारी अर्थव्यवस्था के विकास के लिए आवश्यक है। कोल्ड स्टोरेज उद्योग न केवल लाखों लोगों को रोजगार प्रदान करता है, बल्कि कृषि के क्षेत्र में भीअपनी प्रमुख भूमिका निभाता है।

बारीकी के साथ विस्तृत और संरचित रोडमैप के साथ, आप राज्य में तो क्या बल्कि पूरे भारत में अपने बिज़नस की कोल्ड स्टोरेज चेन बना सकते हैं। वर्तमान समय में , हमारे पास देश भर की मांग को पूरा करने के लिए पर्याप्त कोल्ड स्टोरेज नहीं हैं। सरकारी सब्सिडी और आसानी से उपलब्ध ऋणों के कारण, भारत में कोल्ड स्टोरेज एक अच्छा व्यवसाय बन गया है।

यहां दी गई सम्पूर्ण गाइड और उपलब्ध संसाधनों का उपयोग करके, आप आज ही अपना कोल्ड स्टोरेज बिज़नस को खोलने की योजना बनाना शुरू कर सकते हैं।

This post is also available in: English हिन्दी Tamil

Share:

Leave a comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

Subscribe to Newsletter

Start a business and design the life you want – all in one place

Copyright © 2022 Zocket