जिम व्यवसाय योजना: चरण-दर-चरण मार्गदर्शिका

Table of Contents

Share this article

परिचय (Introduction)

सेहत और फिटनेस को बनाए रखने के लिए जिम हमारे दैनिक जीवन का बहुत जरूरी हिस्सा बन गया है। आज के समय में  फिटनेस के प्रति बढ़ती जागरूकता ने जिम को हमारी जिन्दगी का सबसे अहम हिस्सा बना दिया है।  यहीं वजह है कि आज के समय में  जिम की संख्या तेजी से बढ़ रही है। इसका व्यवसाय भी तेजी से फल-फूल रहा है। आज के समय में जिम बेहद लाभदायक व्यावसायिक उद्यम बन कर तेजी से बढ़ रहा है। यहां दी गई मार्गदर्शिका आपको भारत में जिम के उद्योग को समझने और एक मजबूत व्यवसाय योजना बनाने में मदद करेगी।

भारत में फिटनेस उद्योग (Fitness Industry in India)

भारत में फिटनेस उद्योग एक असंगठित क्षेत्र है। हाल के वर्षों से ही, यह चलन जिम की ओर शिफ्ट होने लगा है। कल्ट.फिट जैसी अखिल भारतीय फिटनेस श्रृंखला लॉन्च होने के बाद ही फिटनेस उद्योग की काया पलट होने लगी है। डेलॉयट की एक रिपोर्ट के अनुसार, 2017 में भारत का फिटनेस बाजार लगभग 1.1 बिलियन डॉलर का था और अगले 5 वर्षों में इसके लगभग 12% सीएजीआर से बढ़ने की उम्मीद है। विश्व स्तर पर, जिम उद्योग का मूल्य $96.7 बिलियन से अधिक है। और यह आंकड़ा तेजी से बढ़ रहा है।

भारत की फिटनेस क्षेत्र में  क्षमता को समझने के लिए,  आप इस बात पर ध्यान दें। भारत दुनिया की 15% से अधिक आबादी का प्रतिनिधित्व करता है। फिर भी, फिटनेस के क्षेत्र में इसकी बाजार हिस्सेदारी पश्चिमी देशों तुलना में बहुत ही कम है। इस डेटा का मतलब यह है कि भारत में फिटनेस का स्थान अभी बहुत दूर है। भारत में एक विशाल जनसांख्यिकीय मौजूद होने के बाद भी, इसका अभी सही तरीके से उपयोग नहीं किया गया है। दोहन नहीं किया गया है। इसके अतिरिक्त, मुंबई जैसे महानगरीय शहरों में फिटनेस  जैसी चीजों की बिक्री 2017 में 1,200 करोड़ रुपये से बढ़कर 2019 में 2,000 करोड़ रुपये हो गई है। इस आधार पर हम कह सकते हैं कि आज के समय में भी भारत में फिटनेस उत्पादों और जिम जैसी सुविधाओं की मांग ज्यादा है। जबकि इनकी पूर्ति तुलनात्मक बहुत कम है।

जिम के बिजनेस मॉडल (Gym Business Model)

एक सफल जिम व्यवसाय शुरू करने के लिए आपको सही योजना और शोध की जरूरत होती है। इससे पहले कि आप अपनी व्यवसाय योजना बनाना शुरू करें। उससे पहले एक उपयुक्त व्यवसाय मॉडल का पता लगाना सबसे महत्वपूर्ण काम है। यदि आप  फिटनेस प्रोफेशनल है, या फिर सेहत के प्रति जागरूक है, तो आपके लिए एक फिजिकल जिम शुरू करना सबसे अच्छा विकल्प हो सकता है।

हालांकि, जिम उद्योग में कई प्रकार के व्यावसायिक मॉडल मौजूद हैं। उदाहरण के लिए, जिम शुरू करने के बजाय, आप जिम उपकरण, सप्लीमेंट्स और जिम के कपड़ों का निर्माण कर सकते हैं। फिटनेस उपकरण का बाजार भी जिम के जितना ही समानांतर रूप से सफल है। उदाहरण के लिए,  प्रोटीन, क्रिएटिन और प्लांट-बेस्ड प्रोटीन जैसे सप्लीमेंट्स की मांग आज के समय में बहुत अधिक है।

इस उद्योग में आपको जिस चीज का सबसे ज्यादा अनुभव है। उसका आकलन करें। जैसा कि ऊपर बताया गया है कि आप, फिटनेस और जिम विशेषज्ञ परामर्श के रूप में भी व्यवसाय भी शुरू कर सकते हैं। इसके अलावा जिन लोगों के पास इस क्षेत्र का  अनुभव नहीं है, वे या तो किसी भी प्रकार कि ट्रेनिंग ले सकते हैं। या फिर  इक्विपमेंट मैन्युफैक्चरिंग की इकाई भी स्थापित कर सकते हैं। आप जिस भी फिटनेस क्षेत्र में बिज़नेस करने की योजना बना रहे हैं, उसके लिए एक ऐसे व्यवसाय मॉडल का चयन करें, जो आपके अनुभव और ज्ञान से मेल खाता हो।

अपना जिम बिजनेस प्लान बनाएं (Create Your Gym Business Plan)

जिम सेंटर स्थापित करना काफी महंगा है। इस सेंटर को स्थापित करने के लिए आपको जिम की मशीनें और इक्विपमेंट, प्रमाणित फिटनेस प्रशिक्षकों को नियुक्त करना  और मार्केटिंग करने की आवश्यकता होती है। इन बुनियादी कदमों के अलावा,  भी ऐसे कई कदम है, जो आपके व्यवसाय की सफलता की दर को  निर्धारित कर सकते हैं। सभी व्यावसायिक योजनाएँ एक मानक टेम्पलेट का पालन करती हैं। अपने लिए खुद का बिज़नेस प्लान बनाने के लिए आप इस व्यवसाय योजना टेम्पलेट का उल्लेख कर सकते हैं। हालांकि, नीचे कुछ महत्वपूर्ण बातें बताई गई हैं, जिन पर आपको अपने जिम व्यवसाय की योजना बनाते समय ध्यान देने की आवश्यकता है।

उद्योग का विश्लेषण करें (Industry Analysis)

व्यवसाय योजना शुरू करते समय पहला कदम बाजार के बारें में रिसर्च करना है। बाजार के मौजूदा रुझानों और उद्योग के विकास को समझने से आपको बहुत मदद मिलेगी। आपको समझ आएगा की अपने बिज़नेस में आपको क्या जोड़ना है, और हटाना है। उद्योग के बारे में रिसर्च  करने के लिए एक आसान अंदरूनी तरीका है। इस पद्धति में, आपको रिसर्च की शुरुआत अपने स्थानीय क्षेत्र, कस्बे,  शहर में जिम और फिटनेस सेंटर करनी होती है। उनके लक्षित दर्शकों, जिम के प्रकार की पहचान करें । इसके साथ ही मूल्य निर्धारण और मुनाफे के बारे में अनुमानित डेटा एकत्र करें। इसके बाद आप दूसरी जगहों पर श्रृंखलाओं का विस्तार कर सकते हैं और उन सभी डेटा को समग्र उद्योग आँकड़ों से जोड़ सकते हैं।

बाजार में ऐसे कई रिसर्च करने वाले और सूचना देने वाले ग्रुप मौजूद है। जो आपके लिए उच्च गुणवत्ता वाले शोध करके आपको सारी जानकारी उपलब्ध करा देंगे। यदि आप खुद से सारा डेटा एकत्र नहीं करना चाहते हैं, तो आप भारतीय फिटनेस उद्योग पर एक विस्तृत रिपोर्ट को आउटसोर्स के माध्यम से प्राप्त भी कर सकते हैं। आप इस  आउटसोर्स रिपोर्ट का अध्ययन करके अपना और कुछ समय बचा सकते हैं। उद्योग विश्लेषण करना किसी भी व्यवसाय के ‘पर्दे के पीछे’ पहलू को समझने का एक शानदार तरीका है। फिटनेस, स्वास्थ्य और पोषण पर सेमिनार में भाग लेना भी इस उद्योग के काम करने और लोगों से जुड़ने का एक शानदार तरीका है।

ग्राहक विभाजन (Customer Segmentation)

एक व्यवसाय तभी अच्छे तरीके से चल सकता है, जितने उसके लक्षित ग्राहक होंगे। यदि आप अपने लक्षित समूह को विभाजित नहीं करते हैं, तो आपको व्यवसाय शुरू करने से पहले ही नुकसान उठाना पड़ सकता है। इसलिए, अपने लक्षित समूह का निर्धारण करना अत्यंत महत्वपूर्ण है। जैसे क्या आपका जिम वजन घटाने जैसी सुविधा प्रदान करता है? क्या यह किसी शैक्षणिक संस्थान के पास स्थित है? क्या आपका जिम कार्डियो, योग या बॉडी-बिल्डिंग पर भी फोकस करता है?  कुछ ऐसे प्रश्न यह समझने में सहायता कर सकते हैं कि आपके संभावित ग्राहक कौन हो सकते हैं।

अपने ग्राहकों के बारे में समझने के लिए सर्वेक्षण करें या पिछले सर्वेक्षणों के डेटा का उपयोग करें। एक बार जब आप पहचान लेते हैं कि आपके ग्राहकों को क्या चाहिए, तो आप उन्हें विभिन्न आयु के समूहों में विभाजित कर सकते हैं। ग्राहक विभाजन आपको अपनी सेवाओं को व्यवस्थित करने और प्रभावी मार्केटिंग अभियान बनाने में मदद करेगा।

प्रतिद्वंद्वी का विश्लेषण करें (Competitor Analysis)

व्यवसाय योजना बनाने का एक और महत्वपूर्ण हिस्सा प्रतिस्पर्धियों के बारे में विश्लेषण करना है। यह आपको बाजार में गैप को पहचान करने में मदद कर सकता है। प्रतिद्वन्द्वी विश्लेषण का उपयोग करके आप अपने प्रतिस्पर्धियों द्वारा उपयोग की जाने वाली व्यवसाय और मार्केटिंग रणनीतियों की पहचान कर सकते हैं और उनके लाभ उठा सकते हैं। यह बिज़नेस का बहुत जरूरी चरण है, क्योंकि प्रतिद्वन्द्वीयों के बारे में अध्ययन करने से आपको यह समझ आएगा की आपके प्रतियोगी कैसे काम करते हैं। इस अध्ययन से आप उनसे आगे भी निकल सकते हैं।  आपका सबसे पहला कदम यह पहचानना है कि आपके प्रतियोगी कौन- कौन है। एक साधारण सी गूगल सर्च करें।  अपने प्रतिस्पर्धियों को ट्रैक करने के लिए एक स्प्रेडशीट बनाएं। इसके बाद, अपने प्रतिस्पर्धियों को प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप में विभाजित करें।

अब आप अगले चरण में अपने प्रतिस्पर्धियों का स्वोट (SWOT) विश्लेषण बनाएं। स्वोट (SWOT)  विश्लेषण एक शक्तिशाली उपकरण है जो किसी कंपनी की ताकत, कमजोरियों, अवसरों और खतरों को आसानी से उजागर कर सकता है। आप अपने स्वोट (SWOT) विश्लेषण में कंपनी के स्थान, फंडिंग, मूल्य निर्धारण मॉडल, लाभप्रदता, उत्पाद आदि जैसे कारकों का उपयोग कर सकते हैं। अपने प्रतिस्पर्धियों को ट्रैक करने के अलावा, उनके द्वारा बेचे जाने वाले  उत्पादों और दी जाने वाली  सेवाओं को ट्रैक करने के लिए दूसरी स्प्रेडशीट बनाएं। अब सबसे ज्यादा बिकने वाली चीजों और सबसे ज्यादा पसंद की जाने वाली सेवाओं को बढ़ते से घटते क्रम की तरफ रैंक करें। इससे आपके पास बारीक जानकारी होगी। यह आपकी प्रतिस्पर्धा को कम करने में भी मदद करेगा।

विपणन रणनीति (Marketing strategy)

एक कुशल मार्केटिंग अभियान बनाने से यह सुनिश्चित करना होगा कि आपका व्यवसाय प्रतिस्पर्धा से बिल्कुल अलग है। रचनात्मक मार्केटिंग अभियान भी नए व्यवसायों को  प्रमुख शुरुआत हासिल करने में मदद करते हैं। इसलिए, अपनी मार्केटिंग रणनीति तय करने के लिए आपको कई कारकों को ध्यान में रखना होगा:

·         लक्षित दर्शक (Target audience): यदि आपके बिज़नेस के लक्षित दर्शक 16 से 30 आयु वर्ग के हैं, तो आपके लिए सोशल मीडिया मार्केटिंग सबसे उपयुक्त हो सकती है। जबकि, आपके ग्राहक इससे अधिक उम्र के हैं, तो बैनर, समाचार पत्र और गुरिल्ला विज्ञापन सबसे अच्छा काम आपके बिज़नेस के लिए करेंगे।

·         उत्पाद और सेवा का प्रकार (Type of product/service): अपने उत्पाद की यूएसपी की पहचान करने से आपके अभियान को दिशा देने में मदद मिलेगी। यदि आपकी प्राथमिक सेवा योग या मार्शल आर्ट है, तो वह आपकी मार्केटिंग रणनीति का केंद्र बन जाएगा।

·         मोड (Mode): मार्केटिंग रणनीति के बारे में जानने के कई तरीके हैं, जैसे कि प्रभावशाली मार्केटिंग, सशुल्क विज्ञापन, वर्ड ऑफ माउथ, आदि।

प्रबंधन और स्टाफिंग (Management & Staffing)

अपने व्यवसाय के लिए पेशेवरों की सही टीम का चयन करने से आपके बिज़नेस को तेजी से बनाए रखने और विकसित करने में मदद मिल सकती है। जिम को सफलतापूर्वक चलाने के लिए, आपके पास निम्नलिखित कार्यबल होंगे:

·         पेशेवर जिम ट्रेनर (Certified gym trainers): यह वो लोग हैं जिनके पास नूट्रिशन और जिम ट्रेनिंग का वैध लाइसेंस होता हैं। इन लोगों को अपने ग्राहकों को कोचिंग, बॉडी-बिल्डिंग या फिटनेस डिसिप्लिन का पहले से ही अनुभव होता है। जिम ट्रेनरों की एक सक्षम टीम आपके जिम को विश्वसनीयता को बढ़ाती है। इससे आपको ज्यादा से ज्यादा ग्राहक हासिल करने में मदद भी मिलती है।

·         लेखाकार (Accountant): एक लेखाकार जिम में आने वाले पैसों का प्रबंधन करेगा। इससे आपको समझ आएगा की जिम के द्वारा कितनी आय आप अर्जित कर रहे हैं। इसके साथ ही वह लेनदेन, मासिक रिपोर्ट बनाने, कर्मचारियों के पेरोल के प्रबंधन और टैक्सेशन के लिए जिम्मेदार होगा।

·         मानव संसाधन और मार्केटिंग (HR & Marketing): जिम का कामकाज  सुचारू रूप से चलता रहे यह सुनिश्चित करने के लिए आपको प्रोफेशनल एच आर और मार्केटिंग एक्सपर्ट की जरूरत होगी। प्रोफेशनल एच आर सही आंतरिक संचार, कर्मचारियों की भर्ती और शिकायतों का समाधान करना सुनिश्चित करेगा। यह मार्केटिंग पेशेवर ब्रांड को बढ़ावा देने और नए ग्राहकों को जिम में आकर्षित करने के लिए भी जिम्मेदार होगा है।

·         चौकीदार (Janitors): आपको अपने जिम में, एक या दो चौकीदारों की भी आवश्यकता होगी जो जिम एरिया, चेंजिंग रूम, वॉशरूम और लॉबी को साफ और साफ करेंगे। जिम को बेहद हाइजीनिक और नियमित रूप से सैनिटाइज करने की जरूरत होती है। इसलिए चौकीदारों की एक टीम भी जरूरी है।

वित्तीय योजना (Financial Plan)

अपने व्यवसाय के लिए पैसों के मामले में पूर्वानुमान लगाना, और बजट को ध्यान में रखकर योजना बनाना किसी भी बिज़नेस की रीढ़ की हड्डी होती है। व्यापार में निवेश का अनुमान लगाने और इसे बिज़नेस में खर्च होने वाली लागतों के साथ जोड़ने से आपको आसानी से लोन प्राप्त करने में मदद मिलेगी। इसलिए, यह जरूरी है कि आपकी वित्तीय योजना तथ्यात्मक और लेजर केंद्रित हो। जिम बिज़नेस शुरू करने के लिए एक निश्चित निवेश की राशि नहीं होती है। जिम शुरू करने के लिए आवश्यक राशि अलग-अलग होती है। यह आपके ऊपर निर्भर करता है, कि आप किस तरह से जिम शुरू करना चाहते हैं।  हालांकि, आप 25 लाख रुपये  में एक अच्छा जिम शुरू कर सकते हैं।

एक शानदार जिम खोलने की लागत की बात करें, तो इसमें  स्थान, आंतरिक साज-सज्जा, प्रशिक्षकों की वेतन,  मशीनों की संख्या और गुणवत्ता जैसी शामिल होंगी। तो आपको कम से कम 70 लाख रुपये निवेश करने की जरूरत हो सकती है। यह बजट ऊपर भी जा सकता है। बजट बनाने से पहले आपको इन सभी कारकों के लिए एक मार्केट सर्वे जरुर करना चाहिए। सबसे पहले जिम खोलने के लिए आदर्श स्थानों का चुनाव करें।  जिम यदि आप किराए की जगह पर खोलना चाहते हैं, तो आपको कितना किराया देना पड़ सकता है। इसका अनुमान प्राप्त करें। इंटरनेट पर खोज करके जिम के लिए सभी बुनियादी मशीनों की वर्तमान कीमतों को नोट करें। अनुभवी प्रशिक्षकों से जुड़ने के लिए लिंक्डइन या अन्य जॉब पोर्टल्स का उपयोग करें और यह पता करें कि वे कितना शुल्क लेते हैं। जब आप यह सब आकड़े एक बार जोड़ लेते हैं, तो इन सब के आधार पर आप अपने लिए  वित्तीय योजना तैयार करना शुरू कर सकते हैं।

फ्रैंचाइज़ी विकल्प (Franchise Option)

यदि आप  बड़ी पूंजी निवेश कर सकते हैं, तो पहले से ही लोकप्रिय जिम फ्रैंचाइज़ी लेकर बिज़नेस शुरू करना एक बढ़िया विकल्प है। फ्रेंचाइजी के कई फायदे हैं जैसे – ज्यादा ग्राहक आधार, ब्रांड कि पहले से पहचान, ज्यादा लाभ और कस्टमर सपोर्ट। हालांकि, फ्रैंचाइज़ी लेकर बिज़नेस शुरू करने का सबसे बड़ा नकारात्मक पक्ष है इस्मने निवेश की जाने वाली बड़ी रकम। फ्रैंचाइज़ी खरीदने की शुरुआती लागत बहुत अधिक है।  यदि आपके पास जिम व्यवसाय शुरू करने के लिए ज्यादा बजट नहीं है, तो इस विकल्प का प्रयोग न करें। यदि आपके पास निवेश करने के लिए बड़ी पूंजी है तो आप कई लोकप्रिय ब्रांडों की  फ्रेंचाइजी में से  अपने लिए सही विकल्प चुन सकते हैं। आप गोल्ड का जिम, कल्ट।फिट, प्लैनेट फिटनेस, आदि जिम ब्राडों की  फ्रेंचाइजी ले सकते हैं।

जगह  (Location)

अपने व्यवसाय के लिए सही स्थान की खोज करना कभी भी बंद नहीं करना चाहिए । अपने जिम के लिए एक शानदार जगह का चयन करने के लिए रणनीतिक योजना बनाने की आवश्यकता होती है। घनी आबादी वाले क्षेत्रों जैसे वाणिज्यिक कमर्शियल स्ट्रीट, कार्यालयों, स्कूलों, कॉलेजों या अपार्टमेंट के आस-पास वाली जगहों की तलाश करें। ऐसी जगहों पर जिम शुरू करने से आपके पास बहुत सारे ग्राहकों के विकल्प होंगे।  लोग हमेशा दूर जाने के बजाय  अपने घर या ऑफिस के आसपास ही जिम जाना पसंद करते है।  घर या ऑफिस के पास वाला विकल्प ग्राहकों द्वारा ज्यादा पसंद किया जाता है।

जिम खोलने के लिए आवश्यक चीजें (Requirements)

लाइसेंस और परमिट (Licenses and permits )

जिम व्यवसाय शुरू करने के लिए आपकी किसी प्रकार के खास लाइसेंस की आवश्यकता नहीं होती है। केवल फिटनेस ट्रेनर सर्टिफाइड होना चाहिए। आपको सिर्फ अपने जिम व्यवसाय को एक निजी बिज़नेस के रूप में पंजीकृत करने, जीएसटी नंबर प्राप्त करने और टैक्स पंजीकरण पूरा करने की आवश्यकता है।

इसके अलावा, आपको भारत में फिटनेस सेंटर खोलने के लिए राज्य पुलिस विभाग से मंजूरी लेनी होगी। आप स्थानीय पुलिस विभाग से संपर्क करें और भारत में फिटनेस सेंटर संचालित करने के लिए एक आवेदन दें। यह प्रक्रिया एक राज्य से दूसरे राज्य में भिन्न हो सकती है। इसलिए, अपने नजदीकी पुलिस विभाग में जाकर सही जानकारी प्राप्त करें।

उपकरण (Equipment)

जिम शुरू करने के लिए आवश्यक उपकरणों की सूची जिम के बजट और आकार पर निर्भर करती है। हालांकि, कुछ आवश्यक उपकरण के प्रकार यह हैं:

·         1,000 किलो वजन तक के  (डंबल, प्लेट, बारबेल, मैट, रस्सी, आदि)

·         प्रशिक्षण बेंच

·         पुल-अप फ्रेम और बार

·         मशीनें (लेग प्रेस, लेग एक्सटेंशन, केबल क्रॉसओवर, चेस्ट प्रेस, रोइंग, एब-क्रंच मशीन, आदि)

निष्कर्ष (Conclusion)

आज के समय में जिम व्यवसाय तेजी से उच्च मूल्य वाले व्यावसायिक विकल्प बनते जा रहे हैं। एक अच्छी तरह से सुसज्जित और अच्छे स्टाफ वाला जिम प्रति वर्ष 60 लाख रुपये तक कमा सकता है। यदि उसके ग्राहकों का आधार 500 से अधिक है। ऊपर बताए गए चरणों का ध्यानपूर्वक पालन करके आप अपने जिम व्यवसाय के लिए एक प्रभावी बिज़नेस प्लान और मार्केटिंग रणनीति बना सकते हैं। यह सब बातें आपको बिज़नेस लोन दिलाने में मदद करेगी।

This post is also available in: English हिन्दी

Share:

Leave a comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

Subscribe to Newsletter

Start a business and design the life you want – all in one place

Copyright © 2022 Zocket