फ़ूड ट्रक बिज़नस : कम लागत में ऐसे पाए डबल मुनाफा, जानें पूरी जानकारी

Table of Contents

Share this article

विदेशों में ही नहीं अपने देश में भी खाने के बहुत शौकीन लोग हैं। आप यकीन माने यदि उन्हें किसी जगह का खाना पसंद होता है, तो वो कई मीलों का भी सफर कर सकते हैं। समय की कमी और बदलते परिवेश की वजह से हर जगह खाने की मांग बढ़ रही है। आप कई तरह की डिश बनाना जानते हैं, यदि आपके हाथों में स्वाद का जादू है, आपके हाथ का खाना खाने के बाद लोग उंगलियाँ चाटकर रह जाते हैं, तो आपको फूड ट्रक बिज़नस शुरू करने के बारें में जरुर सोचना चाहिए। यह एक ऐसा बिज़नस हैं, जो कम लागत में ज्यादा मुनाफा देता है। यदि आपने अपने फूड ट्रक के लिए सही जगह का चुनाव किया है, तो समझ लो आपकी बल्ले-बल्ले। चलिए जानते हैं, फूड ट्रक बिज़नस शुरू करने के लिए हमें किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

परिचय (Introduction)

एक फूड ट्रक एक छोटी बस या वैगन के समान ही बड़ा वाहन होता है। जिसमें आप आसानी से खाना तैयार कर सकते हैं, और परोस सकते हैं। इसमें एक ऑनबोर्ड किचन होता है। जिसमें आप फास्ट फूड जैसे फ्रेंच फ्राइज़, सैंडविच, ग्रिल्ड फूड, या कोई भी क्षेत्रीय व्यंजन काफी आसानी से बनाकर बेच सकते हैं। आज के समय में  इतालवी, फ्रेंच और मैक्सिकन जैसे वैश्विक व्यंजन भी लोगों को स्वाद की वजह से अपनी ओर खींच रहे हैं। लोकप्रियता प्राप्त कर रहे हैं। इसके साथ ही फूड ट्रक में कई तरह की पेय ड्रिंक भी परोसी जाती हैं।  यूनाइटेड किंगडम और संयुक्त राज्य अमेरिका की फूड ट्रक या रेस्टोरेंट्स इन व्हील की इस अनूठी खाने की अवधारणा से प्रेरणा लेते हुए, भारत में भी यह बिज़नस तेजी से लोकप्रिय हो रहा है।

फूड ट्रक हाल ही में तेजी से बदलते रेस्तरां उद्योग में काफी लोकप्रिय हो गए हैं। फूड ट्रक की अवधारणा में गतिशीलता का लाभ यह है कि यह मालिकों को कम लागत में भी इसे शुरू करने की अनुमति देता है। इसे खोलने के लिए किसी रेस्तरां जितनी पूंजी की जरूरत नहीं होती है। इस वजह से लोग इसे आसानी से खोल सकते हैं।  नतीजतन, यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि छोटे रेस्तरां मालिक एक स्टैंडअलोन रेस्तरां के बजाय एक फूड ट्रक में संलग्न होना पसंद करते हैं।

यदि आप अपना खुद का फूड ट्रक बिज़नस शुरू कर रहे हैं, तो प्लानिंग करते समय  कई तरह की परेशानी आपके दिमाग में आ सकती है। कई सवाल होते हैं, जिनके जवाब आपको चाहिए होते हैं। आपके नए फूड ट्रक के लिए एक संगठित व्यवसाय योजना आपके संभावित प्रश्नों के सभी समाधान निकालने में आपकी सहायता कर सकती है। यह बिज़नस प्लान न केवल यह सुनिश्चित करता है कि आप अपने सभी बिज़नस से जुडी हुई चीजों को कवर करें,  बल्कि यह संभावित निवेशकों को आपकी नई कंपनी के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी भी देते हैं।

भारत में फूड ट्रक  उद्योग (Food Truck Industry in India)

यदि आपके हाथों में स्वाद का जादू है, आपको  खाना बनाने और खिलाने का शौक है, तो भारत में एक फूड ट्रक उद्यम शुरू करना आपके लिए एक शानदार मौका है। फूड ट्रक बिज़नस शुरू करने के लिए, किसी रेस्तरां के जैसे, महंगी अचल संपत्ति खरीदने या किराए पर लेने की कोई आवश्यकता नहीं है। नतीजतन, आप न्यूनतम निवेश के साथ भी इसकी शुरुआत कर सकते हैं। कुछ फ़ूड ट्रक मालिक अपने ट्रकों को अपार्टमेंट इमारतों, व्यावसायिक कार्यालयों, निजी स्थानों या स्कूलों में पार्क करते हैं। इसके अलावा कई फूड ट्रकों को स्थायी रसोई में बदल दिया गया है। इन्हें मॉल के निजी आयोजनों में रसोई के काम को करने के लिए खड़ा किया जाता है। आप प्रमुख  शहरों के फूड स्ट्रीट से भी फूड ट्रक की शुरुआत कर सकते हैं। भारत में यह अभी अपनी प्रारंभिक अवस्था में है, यही वजह है की फूड ट्रक या मोबाइल किचन उद्योग में अपार संभावनाएं हैं।

फ़ूड ट्रक हमेशा आउटलेयर रहे हैं, वे रेस्त्रां का खाना उन जगहों पर पहुँचाते हैं, जहाँ पहले कभी किसी शेफ ने खाना नहीं बनाया है।  हालांकि, कोविड -19 के बढ़ने के साथ, चीजें मुश्किल हो गई थी। लोगों को घर से निकलने की मनाही थी। लोग घर से बाहर निकल नहीं सकते थे। रेस्टोरेंट्स में जाकर खाना खा नहीं सकते थे। यही वजह है की फूड ट्रक को इस परिवर्तन के कारण एक व्यापक बाजार मिल गया। रेस्तरां का किराया बहुत महंगा था, और फूड ट्रकों ने उपभोक्ताओं के एक बड़े स्पेक्ट्रम की सर्विस के लिए एक कम खर्चीला विकल्प प्रदान किया।

फूड ट्रक में उछाल के दस साल बाद, ट्रकों को फिर से आउट ऑफ़ द बॉक्स सोचने के लिए मजबूर किया जा रहा है। अब ट्रक रिहायशी इलाकों में जा रहे हैं और अस्पतालों के बाहर भी खड़े होकर लोगों तक अपना खाना पंहुचा रहे हैं। फूड ट्रक अब अपने भोजन को पूरी तरह से नए दर्शकों तक पहुंचाने के एड़ी चोटी का जोर लगा रहे हैं।

फूड ट्रक बिज़नस के लिए व्यवसाय योजना  (Creating a Business Plan for your Food Truck Business)

हालांकि भारत में फूड ट्रक बिज़नस  शुरू करना थोड़ा मुश्किल लग सकता है,  लेकिन हम आपको  इसे सरल बनाने के लिए चरण दर चरण प्रक्रिया के बारें में बताएंगे:

·         ऐसे फूड ट्रक का चुनाव करें, जो आपके काम के हिसाब से एकदम सही हो।

·         एक फूड ट्रक में आवश्यक खाना पकाने की जगह और बुनियादी आपूर्ति कि सुविधा हो।

·         भारत में फूड ट्रक सर्विस शुरू करने के लिए, आपको आवश्यक लाइसेंस और परमिट के लिए पंजीकरण करना होगा।

·         फूड ट्रक को सफलतापूर्वक चलाने के लिए जिन लोगों की आवश्यकता होगी, उनकी तलाश करें।

·         अपने फ़ूड ट्रक के लिए पॉइंट-ऑफ़-सेल सिस्टम स्थापित करें।

·         अपने ट्रक के कर्मचारियों की एक ड्रेस  के बारे में निर्णय लें।

·         अपने फूड ट्रक  का प्रचार करें।

·         तय करें कि भारत में फ़ूड ट्रक बिज़नस  स्थापित करने के लिए आपको कितने पैसे की आवश्यकता होगी।

·     भारत में आपके फूड ट्रक बिज़नस को सुचारू रूप से चलाने के लिए आवश्यक और अन्य वस्तुओं की सूची बनाए।

सही फूड ट्रक वाहन को चुनें (Choose the right food truck vehicle)

भारत में, एक अच्छे फूड ट्रक की कीमत 8-10 लाख के बीच हो सकती है। एक पूरी तरह से तैयार किए गए फूड ट्रक की अधिकतम कीमत 20 लाख तक भी हो सकती है। यहां हमने निम्नलिखित सभी लागतों का विस्तृत विवरण दिया है:

वाहन (Vehicle): फूड ट्रक बिज़नस शुरू करने के लिए, आपको एक ट्रक की आवश्यकता होगी। आप या तो इस्तेमाल किया हुआ ट्रक खरीद सकते हैं, या फिर  किराए पर ले सकते हैं। एक वाहन की कीमत आमतौर पर  कम से कम 4-10 लाख रुपये के बीच होगी।

उपकरण (Equipment): आपको अपने फूड ट्रक के लिए किचिन के प्रमुख उपकरणों को खरीदने के लिए  एकमुश्त निवेश करना होगा। जिनमें स्टोव,  खाना पकाने के बर्तन, खाना परोसने के बर्तन  और कटलरी सभी शामिल होगी। इसके अलावा ग्राहकों को बैठने के लिए कुछ टेबल और कुर्सियाँ स्थापित भी कर सकते हैं ताकि वो बैठ सकें। हालांकि टेबल और कुर्सी की वैकल्पिक व्यवस्था है। इन सब की कीमत लगभग 2 लाख होगी।

खाना बनाने के लिए, आपको माल और कच्चे माल के भंडार की आवश्यकता होगी। इसमें आपको  20-30 हजार रुपये खर्च करने होंगे। यह आपके स्टॉक के ऊपर निर्भर करता है।

पीओएस (POS: Your point-of-sale): आपका पॉइंट-ऑफ-सेल सिस्टम इक्विपमेंट खरीदने के लिए आपको 25 से 30 हजार रुपए देने पड़ते हैं।  यह एक प्रकार का  सॉफ़्टवेयर होता है, जो सीआरएम, एनालिटिक्स और इन्वेंटरी जैसी कुछ मुख्य व्यावसायिक गतिविधियाँ होती है, जिनसे यह जुड़ता है। व्यवसाय को व्यवस्थित बनाए रखता है.

स्टाफ (Staff): आपको अपने व्यवसाय के रोज के कामों को करने के लिए कुछ लोगों की भर्ती करनी होगी। सौभाग्य से, भारत में कर्मचारियों को काम पर रखना निषेधात्मक रूप से महंगा नहीं है। आपको प्रत्येक व्यक्ति के लिए लगभग 13,000 से 15,000 प्रतिमाह देना निर्धारित करना चाहिए।

फूड ट्रक बिज़नस शुरू करने के लिए आवश्यक लाइसेंस और पंजीकरण (Licenses and registrations necessary for the food truck business):

एक फूड ट्रक को किसी भी अन्य व्यवसाय की तरह, सभी आवश्यक परमिटों की आवश्यकता होती है। भारत में “अवैध” माने जाने वाले फूड ट्रकों को पहले सरकार द्वारा लक्षित किया गया है। फूड  ट्रक शुरू करने के लिए आपको जिन लाइसेंसों की आवश्यकता होगी वे इस प्रकार है:

·         FSSAI प्रमाणन (FSSAI Certification)- भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (FSSAI) FSS (खाद्य व्यवसायों का लाइसेंस और पंजीकरण) विनियम 2011 को नियंत्रित करता है, यह सबसे महत्वपूर्ण लाइसेंसों में से एक है।

·         व्यापार निगमन (Business Incorporation)- भारत में, चॉकलेट व्यवसाय लाइसेंस एकल स्वामित्व, सीमित देयता भागीदारी (एलएलपी) पंजीकरण के माध्यम से या कानूनी स्थिति प्राप्त करने और वित्तपोषण के विभिन्न स्रोतों तक पहुंचने के लिए एक निजी लिमिटेड कंपनी बनाकर प्राप्त किया जा सकता है। एलएलपी और एकमात्र स्वामित्व में एक प्राइवेट लिमिटेड कंपनी की तुलना में कम अनुपालन और अन्य संबंधित औपचारिकताएं हैं।

·         ट्रेड लाइसेंस (Trade License)- ट्रेड लाइसेंस प्राप्त करने के लिए, आपको पहले अपने राज्य सरकार से एनओसी प्राप्त करनी होगी।

·         ट्रेडमार्क पंजीकरण प्राप्त करना (Obtaining a Trademark Registration)- पंजीकृत ट्रेडमार्क किसी भी नई फर्म के लिए अब तक की सबसे महत्वपूर्ण अवधारणा है, क्योंकि यह लोगों के साथ-साथ अन्य व्यवसायों के लोगों की प्रतिकृति को रोकता है। और ग्राहकों का विश्वास भी बनाए रखता है।

·         गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (जीएसटी) पहचान संख्या (Goods and Services Tax (GST)- व्यवसाय शुरू करने के लिए एक चालू खाता खोलना आवश्यक होता है, और ऐसा करने के लिए आपके पास जीएसटी नंबर होना चाहिए।

·         मुख्य अग्निशमन अधिकारी का अनापत्ति प्रमाण पत्र (एनओसी) (Chief Fire Officer’s No-Objection Certificate (NOC): मुख्य अग्निशमन अधिकारी से एक एनओसी प्रमाण पत्र की आवश्यकता होती है, क्योंकि खाद्य ट्रक में बहुत सारे गैस उपकरणों के साथ काम किया जाता है।

·     नगर परिषद से निकासी प्रमाण पत्र (Clearance certificate from the city council): एक बार जब आप अपने फूड ट्रक के संचालन के लिए जगह तय कर लेते हैं, तो आपको उस जगह पर फूड ट्रक को खड़े करने से पहले स्थानीय नगरपालिका प्राधिकरण द्वारा हस्ताक्षरित डॉक्यूमेंट आवश्यकता होगी।

फूड ट्रक के लिए लोगों को काम पर रखने की करें प्लानिंग (Optimal manpower planning for your food truck)

चूंकि एक फूड ट्रक एक बहुत बड़ा व्यवसाय नहीं है, इसलिए आपको केवल 2 से 3 शेफ की आवश्यकता होती है ,और वे भी निर्धारित समय पर उपलब्ध होने चाहिए। आप यह भी सुनिश्चित करें, कि आप अन्य रसोइयों के संपर्क में रहें। जब आपके स्थायी शेफ न हो तब आप दुसरे शेफ को पैसे देकर उनसे सर्विस ले सकें। आपके फूड ट्रक को सही तरीके से चलाने, ट्रक को अव्यवस्था मुक्त, साफ-सुथरा और सबसे महत्वपूर्ण रूप से स्वच्छ बनाए रखने के लिए आपको एक क्लीनर की भी जरूरत होगी।

सही स्थान चुनें (Pick the right location)

भले ही आपका चलता फिरता फूड ट्रक है, लेकिन इसका मतलब यह बिलकुल भी नहीं है कि ” इसे खड़ा करने के लिए सही जगह का चुनाव करना आपके लिए बहुत ही  सामान्य होगा। आपको समय  से पहले एक योजना बना लेनी चाहिए, की अपने फूड ट्रक को कहां लेकर जाएंगे। कहां खड़ा करेंगे। ताकि आप हर दिन आदर्श स्थान की तलाश में समय बर्बाद न करें। सबसे पहले और सबसे महत्त्वपूर्ण, आपको यह सोचना चाहिए कि आपका लक्षित बाजार कहां होगा। यदि आप “वर्किंग लंच” भीड़ को लक्षित कर रहे हैं, जो अपने कार्यालयों के पास एक त्वरित भोजन खोज रहे हैं, तो आपको एक सुलभ साइट की आवश्यकता होगी।

आपके कस्टमर के लिए समय और स्थान दोनों  बहुत महत्वपूर्ण है। वे जानना चाहेंगे कि आप कहां-कहां जाते हैं। आपका समय क्या है। आप उस जगह तक कब पहुंचेंगे। यदि आप एक दिन में  एक ही स्थान पर है, और अगले दिन कहीं और चले गए हैं, तो आप नियमित कस्टमर नहीं बना पाएंगे। आप ग्राहकों को अलग-थलग करने का जोखिम उठाते हैं, जो आपको असंगत मानते हैं।

एक स्थापित फूड कार्ट “पॉड” का सदस्य बनने के लिए क्या आवश्यकताएं हैं? इसकी लागत कितनी है, और किन परमिटों की आवश्यकता है? इसे अभी समझें ताकि आप अपने अंतिम बजट में पार्किंग और पंजीकरण शुल्क का भी हिसाब कर सकें।

यदि आप एक दिन में कई जगहों पर लोगों को सर्विस देने वाले हैं, तो अपनी समय सारिणी पर विचार करें। आप लिखें कि आप किन-किन स्थानों पर अपनी सर्विस देंगे। कितनी बार जगह बदलेंगे।  एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने में कितना समय लगेगा। इसके साथ ही स्थान बदलने के बाद अपनी सर्विस शुरू करने में कितना समय लेंगे। इन सब के बारे में भी  बारीकी से अध्ययन करें।

अपने फ़ूड ट्रक की ब्रांडिंग और मार्केटिंग (Branding and marketing your food truck)

फूड ट्रक को खोलने के साथ ही , यह पता लगाना पहले से कहीं अधिक महत्वपूर्ण हो गया है कि आप अपने ग्राहकों को कैसे आकर्षित करेंगे। यह आपका सौभाग्य है की आप एक मोबाइल बिलबोर्ड चला रहे होंगे, जिसका आप लाभ उठा सकते हैं और विज्ञापन और मार्केटिंग के लिए उपयोग कर सकते हैं।

अपनी ब्रांडिंग और मार्केटिंग रणनीति में अपने सोशल नेटवर्किंग अकाउंट को शामिल करना सबसे महत्वपूर्ण है, ताकि लोग आपको जल्दी से ढूंढ सकें और जान सकें कि आप ऑनलाइन कहां हैं। यह भी महत्वपूर्ण है कि आप अपनी सोशल मीडिया उपस्थिति को अप टू डेट रखें।

एक ऐसी प्रोफ़ाइल  जिसे दिनों या हफ्तों में अपडेट नहीं किया गया है। यह आपके बिज़नस के लिए बहुत ही हानिकारक है। यदि आप ऑनलाइन सक्रिय नहीं दिखते हैं, तो कई ग्राहक मान लेंगे कि आप ने अब सर्विस देना बंद आकर दिया हैं।

सोशल मीडिया के अलावा, सुनिश्चित करें कि आपका फूड ट्रक, येल्प और किसी भी अन्य स्थानीय फूड ट्रक निर्देशिकाओं और अनुप्रयोगों पर भी प्रदर्शित हो रहा हो। इन ऐप्स पर उपस्थिति दर्ज करना और विशेष रूप से शुरुआती चरणों में अच्छी प्रतिक्रिया प्राप्त करना महत्वपूर्ण है।

यदि आप स्थानीय प्रेस के द्वारा अपनी उपस्थति को कस्टमर तक पहुंचा सकते है, तो यह आपके लिए फायदेमंद होगी। लोगों को लगेगा की आपके मेनू को ट्राय कर सकते हैं।  आप फॉलो करने योग्य है। साप्ताहिक कला और संस्कृति पत्रों में आपके फूड ट्रक की उपस्थिति के बारे में सूचित करना अच्छा है, क्योंकि यह लोग अक्सर फूड ट्रकों का मूल्यांकन करते हैं। उनके बारे में जानकारी देते हैं।

अपनी व्यक्तिगत कहानी पर विचार करें –

·         आपको क्या अद्वितीय बनाता है?

·         आपके व्यंजन दूसरों से कैसे अलग है?

·     आपने पहली बार में एक फूड  ट्रक खोलने का निर्णय क्यों लिया?

हर किसी के पास बताने के लिए एक कहानी होती है, इसलिए अपनी कहानी साझा करें और देखें कि क्या आप कुछ मीडिया वालों का ध्यान अपनी ओर आकर्षित कर सकते हैं। जब आपकी कहानी लोगों को आकर्षित करेंगी, तो आपके ट्रक की ओर कस्टमर आकर्षित होंगे।

वित्तीय योजना (Financial plan)

हमेशा ध्यान रखें कि राजस्व बनाना शुरू करने में  आपको कुछ समय लगेगा। इसलिए, जब आप निवेश के बारे में सोच रहे हों, तो तीन महीने के ऑपरेटिंग फंड को हाथ में रखने पर विचार करें, ताकि जब आपको इसका उपयोग करने की आवश्यकता हो। आप इसे प्रयोग कर सकें।

निम्नलिखित संभावित अनुमानित लागतों की एक सूची यहां दी गई है, जिसमें निवेश की अलग-अलग  मात्रा में हो सकता है:

·         एक पुराने वाहन (टेम्पो ट्रैवलर) की कीमत 5,00,000 रुपये से 7,50,000 रुपये के बीच है।

·         उपकरण और ट्रक की साज-सज्जा  पर – 2,50,000 खर्च होंगे।

·         लाइसेंस और परमिट की कीमत 40,000 रुपये से 50,000 रुपये के बीच है।

·         2 व्यक्तियों का स्टाफ – 15,000 रुपये प्रति व्यक्ति।

·         कच्चे माल की आपूर्ति (आवर्ती लागत) – रु 25,000।

·     मार्केटिंग – 10,000 रुपये।

अपने व्यवसाय के लिए एक बैंक खाता खोलें

·         यह खाता आपकी व्यक्तिगत संपत्ति को आपकी कंपनी की संपत्ति से अलग रखता है, जो निजी संपत्ति की सुरक्षा के लिए महत्वपूर्ण है।

·         अपनी कंपनी के वित्तीय परिणामों को समझने के लिए अपनी कई लागतों और आय के स्रोतों पर नज़र रखना आवश्यक है।

·     यह टैक्स एकाउंटिंग को और अधिक सरल बनाता है।

व्यवसाय बीमा प्राप्त करें (Get Business Insurance)

व्यवसाय बीमा आपको उस स्थिति में लाभ देता है, जब आपको व्यवसाय में किसी भी तरह के नुक्सान का व्यवसाय में उठाना पड़ता है। यह बीमा  आपकी वित्तीय परेशानी  में रक्षा करता है। सुरक्षित और कानूनी रूप से अपने व्यवसाय को चलाने के लिए  यह आवश्यक है कि आपके व्यवसाय का बीमा किया जाए।

विभिन्न प्रकार की बीमा पॉलिसियां किसी भी कंपनी के द्वारा सामना किए जा सकने वाले जोखिमों की एक विस्तृत श्रृंखला को कवर करती हैं। यदि आप यह नहीं जानते की आपको कौन सा बीमा लेना चाहिए, तो आप  सामान्य क्षतिपूर्ति कवरेज से शुरुआत करें।

इस तरह के बीमा कवरेज के साथ बिज़नस शुरू करना बुद्धिमानी है, क्योंकि यह छोटे व्यवसायों के लिए सबसे लोकप्रिय बीमा है। बीमा उत्पाद श्रमिकों का मुआवजा भी कई व्यवसायों के लिए एक महत्वपूर्ण आवश्यकता है। यदि आपके पास कर्मचारी हैं, तो आपके राज्य को निश्चित रूप से आपको श्रमिकों के मुआवजे का बीमा खरीदने की आवश्यकता होगी।

पॉपुलर फूड ट्रक बिज़नस फूड ट्रक थीम और अवधारणाएं (Popular food truck themes & Concepts)

फूड ट्रक को  भारतीय भोजन श्रेणी की मुख्यधारा में लाने के लिए बहुत से नवीन फूड ट्रक अवधारणाएं और थीम हैं, जो महत्वपूर्ण हैं। इनमें से कुछ नीचे दिए  गए हैं:

·         हेल्थ थीम (Health Theme)

·         रिजनल फूड ट्रक (Regional Food Truck)

·         गुर्मेट फूड  (Gourmet Food)

·         पानिनिस (Panini’s)

·     वाफ्लस (Waffles)

भारत में लोकप्रिय फूड ट्रक ब्रांड (Popular Food Truck brands in India)

·         ललित फूड ट्रक कंपनी, नई दिल्ली (The Lalit Food Truck Company, New Delhi)

·         ईट एन रन, मुंबई (Eat n’ Run, Mumbai)

·         द स्पिटफायर बीबीक्यू ट्रक, बैंगलोर (The Spitfire BBQ Truck, Bangalore)

·         S।W।A।T, बैंगलोर (S।W।A।T, Bangalore)

·     फ्रुगुरपॉप, गुड़गांव और मुंबई (Frugurpop, Gurgaon and Mumbai)

निष्कर्ष (Conclusion)

फूड ट्रक बिज़नस भारत में एक उभरता हुआ उद्योग है, और यह पूरी दुनिया में फल-फूल रहा है। एक फूड ट्रक शुरू करना आसान है, लेकिन इसे सुचारू रूप से चलाए रखना बहुत जरूरी हैं। तभी यह आपको लाभ दे पाएगा। एक फूड ट्रक को चलाने में आपको निश्चित रूप से थोड़ी परेशानी का सामना सफाई और जगह की कमी की वजह से करना होगा। फूड ट्रक का बिज़नस आपके लिए वास्तव में लाभदायक साबित हो सकता है, और आप अपने स्वयं के बजट के साथ इसकी शुरुआत कर सकते हैं। एक बार शुरू होने के बाद इसे बढ़ाने के लिए बहुत सारे स्कोप आपके पास होंगे। अपना खुद का फूड ट्रक शुरू करने के लिए सभी आवश्यक जानकारी इस लेख में प्रदान की गई है।

This post is also available in: English हिन्दी

Share:

Leave a comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

Subscribe to Newsletter

Start a business and design the life you want – all in one place

Copyright © 2022 Zocket