कूरियर बिजनेस प्लान: बदलते समय का सबसे ज्यादा लाभ देने वाला व्यवसाय

Table of Contents

Share this article

कूरियर का व्यवसाय आज के समय से सबसे तेज गति से बढ़ने वाला व्यवसाय है। जब से ऑनलाइन मार्केटिंग की शुरुआत हुई है, तब से इस व्यवसाय की मांग सबसे ज्यादा बढ़ गई है। लोग घर बैठे सामान ऑडर कर देते है, इसे पहुंचाने का  काम कूरियर वालों को करना होता है। इसके अलावा भी आप कई तरह के जरूरी कागज या फिर कोई भी चीज जिसे आप खुद जाकर नहीं दे सकते हैं। उन सब को आप कूरियर के द्वारा भेज सकते हैं।  चलिए जानते हैं, कूरियर व्यवसाय को शुरू करने के लिए बिज़नस प्लान के बारें में।

परिचय (Introduction)

हम एक ऐसे युग में रहते हैं, जहां एक कूरियर और डिलीवरी सर्विस पहले से कहीं ज्यादा आसान और सुलभ  हो गई है। स्विगी जिनी, पोर्टर, डंज़ो, और कई अन्य जैसे ऐप चलन में आए हैं, तब से एक स्थानीय क्षेत्र में डिलीवरी होना जरुरी हो गया है। आज के समय में  कूरियर और डिलीवरी जैसी सर्विस शहरों के साथ-साथ गावों में भी अपनी पहुंच बना रही है। डिजिटल युग की वजह से , कूरियर क्षेत्र आज के समय में बहुत फल फूल रहा है। यदि आप ई-कॉमर्स उद्योग में काम करने में रूचि रखते हैं, यदि आप अपना खुद का व्यवसाय शुरू करना चाहते हैं? तो आप भारत में कूरियर कंपनी के विस्तार के बारे में सोच सकते हैं।

अपने खुद का व्यवसाय शुरू करने का यह एक शानदार अवसर है। बाजार में अन्य कूरियर कंपनीयां भी है, जो आपको कड़ी टक्कर देंगी। आप अपनी कूरियर कंपनी के भविष्य को आगे बढ़ाना चाहते हैं, तो शानदार प्रयासों और इस उद्योग के ज्ञान के साथ एक कूरियर व्यवसाय शुरू कर सकते हैं।

यदि कोई डिलीवरी सर्विस शुरू करना  चाहता है, तो इस बारें में बिज़नस प्लान को बहुत ही सावधानीपूर्वक तैयार करने की आवश्यकता है। तभी आप  इस व्यवसाय में  पहले से मौजूद अग्रदूतों के साथ एक निश्चित स्तर तक प्रतिस्पर्धा कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, एक डिलीवरी सर्विस जो अंतर-राज्यीय कुरियर की सुविधा देती है।  इसके साथ ही आपको यह भी पता लगाने की जरूरत हैं, की आपके क्षेत्र में अभी कौन सी नई डिलीवरी सुविधा लोगों को प्रदान नहीं की जा रही है। आप इस क्षेत्र में क्या नया कर सकते हैं।  आपके द्वारा दी गई डिलीवरी की नई सुविधा व्यवसाय को आगे बढ़ा सकती है।

भारत में कूरियर बाजार (Courier Market in India)

कई  उद्योग द्वारा प्रमुख निगमों के नेटवर्क में प्रवेश और विस्तार की  वजह से  भारत स्थानीय और अंतर्राष्ट्रीय शिपिंग दोनों के लिए एक महत्वपूर्ण बाजार बन रहा है। इंडस्ट्री को बाजार के रुझानों और गतिशीलता के साथ पर्याप्त रूप से जोड़ने के लिए, सरलता एक महत्वपूर्ण प्रेरक शक्ति बन गई है। 2018 के आकड़ों की बात करें, तो  भारत में पार्सल की मात्रा में उल्लेखनीय वृद्धि हुई, जो वर्ष दर वर्ष 21% बढ़कर 2.5 बिलियन हो गई। 2018 में, वैश्विक पैकेज उत्पादन 2017 में 74 बिलियन से बढ़कर 87 बिलियन हो गया। भारत में कूरियर, एक्सप्रेस और पार्सल (सीईपी) का बाजार ई-कॉमर्स के उदय, आम जनता के बीच इंटरनेट के बढ़ते उपयोग और नवीनतम तकनीकी प्रगति के कारण 10.5 प्रतिशत से अधिक की सीएजीआर से विकसित होने की उम्मीद है।

आज के समय में डिलीवरी के लिए भारत स्थानीय और अंतर्राष्ट्रीय शिपिंग दोनों के लिए एक महत्वपूर्ण बाजार बन गया है। उद्यमों को बाजार के रुझान और गतिशीलता के साथ ठीक से अलाइन करने के लिए, इनोवेशन  एक महत्वपूर्ण प्रभावकारी शक्ति बन गया है।

कूरियर व्यवसाय के लिए बिज़नस प्लान  ( Business Plan for Courier Business)

कार्यकारी सारांश (Executive Summary)

आपका कार्यकारी सारांश आपकी व्यावसायिक योजना के परिचय के रूप में कार्य करता है, लेकिन यह आमतौर पर सबसे अंत में लिखा जाता है, क्योंकि यह व्यवसाय के  प्रत्येक प्रमुख भाग को सारांशित करता है। आपके कार्यकारी सारांश का उद्देश्य पाठक का ध्यान तेजी से खींचना होता है। उन्हें बताएं कि आप किस तरह की कूरियर सेवा चलाते हैं, और आपकी वर्तमान स्थिति क्या है। उदाहरण के लिए, क्या आप एक स्टार्टअप है, एक बढ़ती हुई कूरियर कंपनी या कूरियर कंपनियों के नेटवर्क के मालिक हैं?  इसके बाद, अपनी योजना के प्रत्येक भविष्य के घटकों की रूपरेखा दें। उदाहरण के लिए, अपने उद्योग की एक त्वरित रूपरेखा प्रदान करिए । आपके द्वारा चलाई जाने वाली कूरियर सेवा के प्रकार पर चर्चा करें। 

अपने तत्काल प्रतिद्वंद्वियों को विस्तार से पहचानें। अपने लक्षित बाजार का अवलोकन प्रदान करें। अपनी मार्केटिंग रणनीति का संक्षिप्त विवरण दें। निर्धारित करें कि आपकी टीम में सबसे महत्वपूर्ण व्यक्ति कौन हैं। इसके अलावा, अपनी वित्तीय रणनीति की रूपरेखा भी प्रदान करें।

बाजार विश्लेषण (Market Analysis)

भारत में, ई-कॉमर्स ने लोगों के व्यवसाय करने के तरीके में क्रांति ला दी है। 2017 में 38.5 बिलियन अमरीकी डालर से, भारतीय इंटरनेट व्यापार बाजार 2026 तक 200 बिलियन अमरीकी डालर तक बढ़ने की उम्मीद है। देश की डिजिटल इंडिया योजना का कार्यान्वयन ई-कॉमर्स क्षेत्र के तेजी से विस्तार में योगदान देने वाले प्राथमिक कारकों में से एक है।

ई-कॉमर्स में उद्योग के विस्तार में डिलीवरी प्रमुख चालकों में से एक। पार्सल डिलीवरी के लिए भारत शीर्ष तीन सबसे तेजी से बढ़ते बाजारों में से एक है, क्योंकि ऑनलाइन / ई-कॉमर्स व्यवसाय में तेजी से वृद्धि, अतिरिक्त नकदी के उच्च स्तर और इंटरनेट की पहुंच में वृद्धि हुई है।

खर्च को नियंत्रण में रखते हुए सर्विस की गुणवत्ता को लगातार बनाए रखना सभी उद्योग प्रतिस्पर्धियों के लिए एक चुनौती है। लास्ट मील ट्रांसपोर्टेशन के बढ़ते महत्व और मांग ने बाजार के दिग्गजों को इस बारे में अधिक कल्पनाशील तरीके से सोचने के लिए मजबूर किया है कि वे अपने व्यवसाय कैसे आगे बढ़ाकर इसे चलाते हैं।

प्रतिद्वंद्वी विश्लेषण (Competitor Analysis)

2019 की शुरुआत तक, भारत का पूरा सीईपी बाजार 4।29 बिलियन अमरीकी डालर का था, जिसमें घरेलू बाजार में हिस्सेदारी थी। 2019 की शुरुआत तक, घरेलू सीईपी बाजार ने बिक्री में 3.14 बिलियन अमरीकी डालर की कमाई की थी, जो भारतीय सीईपी व्यवसाय द्वारा उत्पन्न कुल आय का लगभग 73 प्रतिशत था। अंतरराष्ट्रीय सीईपी बाजार में बहुत ज्यादा प्रतिस्पर्धा है, केवल कुछ ही प्रतियोगी बाजार के अधिकांश हिस्से को नियंत्रित करते हैं। बाजार अलग-अलग खंडों में विभाजित है, लेकिन आगे आने वाले समय में इसके बढ़ने की संभावना अधिक है।  फ़ेडेक्स एक्सप्रेस, डीएचएल एक्सप्रेस, ई-कॉम एक्सप्रेस, एकर्ट लॉजिस्टिक्स, ब्लू डार्ट, डेल्हीवरी, अमेज़न ट्रांसपोर्टेशन सर्विसेज और अरमेक्स शीर्ष भारतीय उद्योग कंपनियों में से हैं, जो कुरियर उद्योग के विस्तार में महत्वपूर्ण योगदान देते हैं। भारतीय डाक सेवा ने अपना ध्यान अब लैटर डिलीवरी से हटाकर ई-कॉमर्स पार्सल वितरण करने की ओर लगा रही है। आज भी सबसे ज्यादा  दूर दराज के क्षेत्रों में, भारतीय डाक की बड़ी और विश्वसनीय पहुंच है।

दरें निर्धारित करना (Setting Rates)

आप अपने प्रतिद्वंद्वियों पर शोध करने में भी कुछ समय बिता सकते हैं। जिससे आपको यह समझ आएगा की आपके क्षेत्र में, किसी विशेष कूरियर सेवा के लिए औसत दर क्या है? व्यावसायिक मानदंडों के आधार पर, आपको अपनी सर्विस के लिए कितना चार्ज लेना चाहिए। अपने प्रतिद्वंद्वियों के मामले में की गई इस तरह की पूछताछ आपको अपनी सर्विस के रेट को चयन करने में मदद कर सकती हैं।

एक बार जब आप अपने रेट को निर्धारित कर लेते हैं, तो इसे अपने कस्टमर के लिए विजिवल और समझने में आसान बनाएं। यदि आप एक संविदात्मक या बिलिंग प्रक्रिया का उपयोग करते हैं, तो सुनिश्चित करें कि आपके ग्राहक इस बारे में पूरी तरह से जानकारी रखते हैं। उन्हें किसी भी तरह के हिडन चार्ज नहीं देना है।  परिचालन और कवरेज लागत से लेकर पेट्रोल और शिपमेंट की कीमत तक सब कुछ शामिल किया जाना चाहिए। इन सब बातों  का आपकी सर्विस पर बहुत गहरा प्रभाव पड़ता है।

एक लोजिस्टिक्स कंपनी की स्थापना करें या पट्टे पर ले (Setting up or Leasing a Logistics Company)

माल को ट्रांसपोर्ट  करने के लिए परिवहन की आवश्यकता होती है। चूंकि कूरियर के मामले में  माल का आकार और वजन अलग-अलग हो सकता है, कूरियर कंपनियां चारों तरफ से बंद वाली कारों को पसंद करती हैं। कूरियर कम्पनी के लिए मालवाहक ट्रक, लॉरी, हल्के ट्रक, मोटरसाइकिल और टेम्पो परिवहन वाहनों के उदाहरण हैं।

आपके व्यवसाय मॉडल की वर्तमान स्थिति के आधार पर, आपको उपरोक्त वाहनों के संयोजन की आवश्यकता होगी। इसके साथ ही, आपको वजन करने वाली मशीन और  एकाउंटिंग तकनीक की भी आवश्यकता होगी।  यह तकनीक हर प्रकार के ट्रांसपोर्ट  के लिए और  हर किसी  के लिए सही है। इसमें कोई दो राय नहीं जब आप के पास अपने वाहन होंगे, तो उन्हें सही तरीके से रखने के लिए, सभी वाहनों को सुरक्षित करने के लिए गैरेज की आवश्यकता होगी। यह गैरेज आपकी कंपनी की साइट के पास ही होना चाहिए।

उत्पाद और सेवा (Product & Service)

आप एक कूरियर सर्विस के माध्यम से वस्तुओं और उत्पादों को एकत्र और वितरित करेंगे। एक कूरियर कंपनी की लागत वस्तु या कार्गो के स्थान और आयामों से निर्धारित होती है। आपका कूरियर व्यवसाय विभिन्न क्षेत्रों में विशेषज्ञता प्राप्त कर सकता है, जिसमें लिफाफे, बड़ी और छोटी वस्तुएं, या दोनों का मिश्रण शामिल है। आप अपने परिवहन व्यवसाय अवधारणा को आउटसोर्स करने के लिए एक प्रतिष्ठित कूरियर सेवा ऑपरेटर भी चुन सकते हैं। दूसरी ओर, उपठेकेदार, आपकी लाभ की सीमा को  सीमित भी करता है। यदि आप सबसे अधिक लाभदायक डिलीवरी व्यवसाय आइडिया की तलाश कर रहे हैं। तो अपनी कूरियर सेवा को पूरी तरह से शुरू करने और राजस्व-साझाकरण के आधार पर शिपमेंट करने के लिए अन्य भागीदारों को काम पर रखने पर विचार करें। यह आपको प्रशासन और बिक्री पर ध्यान केंद्रित करने का अवसर देता है।

लेबर की आवश्यकता (Labour Requirements)

लेबर की आवश्यकता पूरी तरह से आपके व्यवसाय मॉडल, आपके द्वारा उपयोग किए जा रहे वाहनों के प्रकार आदि पर निर्भर करती है। यदि आप अंतर-राज्यीय या अंतर्राष्ट्रीय शिपिंग कर रहे हैं, तो आपको उन क्षेत्रों में कर्मचारी रखने की आवश्यकता है, जहां आप डिलीवरी कर रहे हैं। यदि यह एक स्थानीय सेवा है, तो आप लोगों को बाइक, वैन आदि को पैकेज या वेतन के हिसाब से किराए पर ले सकते हैं। उनका निश्चित वेतन प्राप्तकर्ताओं या प्रेषकों की द्वारा दी जाने वाली टिप से भी पूरा  हो सकता है। 

बीमा कवरेज सुरक्षित करना (Securing Insurance Coverage)

एक नई परिवहन कंपनी के रूप में यह बात याद रखना बहुत महत्वपूर्ण है कि आप उन उत्पादों के लिए ज़िम्मेदार हैं, जिन्हें आप लाने की गारंटी देते हैं। यह कुछ मामलों में यह उत्पाद हल्के और बिना तोड़-फोड़ वाले हो सकते हैं। लेकिन  अन्य अनुबंधों में भारी माल या मूल्यवान और महंगा सामान भी शामिल हो सकता है।

आपको अपने नए संगठन के अस्तित्व के लिए अपने निजी और संगठनात्मक दायित्वों को पहचानना महत्वपूर्ण है। किसी भी संभावित जटिलताओं को कम करने के लिए और  आपके द्वारा प्रदान किए जाने वाले वितरण कार्यों के लिए आपको सबसे अच्छा बीमा कवरेज सामान और कंपनी के लिए करवाना चाहिए।

जब पर्याप्त मात्रा में बीमा कवरेज की बात आती है, तो आपको इस मामले में सूक्ष्म स्तर पर विचार करना पड़ सकता है। इसका तात्पर्य है कि आप सही बीमा का चुनाव करने के लिए आवश्यक समय इस मामले में प्रदान करें। जिनमें निम्न बातों पर गौर करें:

·         आपके कर्मचारी या ड्राइवर बीमा

·         आपके वाहनों का बीमा

·         इन-ट्रांजिट फ्रेट और कमोडिटीज बीमा

·         व्यापार के लिए परिवहन हार्डवेयर बीमा

ऐसा करने से आप न केवल अपनी व्यावसायिक संपत्तियों को सुरक्षित कर सकते हैं, बल्कि उपयुक्त सही बीमा प्राप्त करके आप दुर्घटना की स्थिति में ग्राहकों का विश्वास और प्रतिबद्धता भी स्थापित कर सकते हैं।

मशीनरी और उपकरण की जरूरत  (Machinery and Equipment involved)

एकाउंटिंग और प्रबंधन सॉफ्टवेयर ऐसे है, जिनकी आपको सबसे ज्यादा आवश्यकता होती है। यह आवश्यकता आपके वाहनों और लेबर के ऊपर निर्भर करती है । जब तक प्रबंधन और लेखांकन पर्याप्त रूप से अच्छे हैं, तब तक आपको कूरियर सेवाओं जैसे व्यवसाय के लिए एक जटिल सेटअप स्थापित करने की आवश्यकता नहीं है।

पंजीकरण और लाइसेंस (Registration and License)

·         कूरियर सर्विस के नाम का चुनाव करके उसका पंजीकरण करवाएं। आपके कूरियर कंपनी का नाम  2013 के कंपनी अधिनियम के तहत पंजीकृत होना चाहिए। कूरियर  व्यवसाय को एकल मालिक, साझेदारी, एक निजी या सार्वजनिक लिमिटेड कंपनी, एक एलएलसी, और इसी तरह स्थापित किया जा सकता है।

·         गुड्स एंड सर्विस टैक्स (जीएसटी) और सर्विस टैक्स के लिए रजिस्ट्रेशन करें। अपने व्यवसाय को कानूनी रूप से लीगल बनाने के लिए  व्यवसाय के मालिकों को फर्म पंजीकरण पूरा करने के बाद जीएसटी और सेवा कर के अनुपालन के लिए एक अनुरोध प्रस्तुत करना होगा।

एक कूरियर ट्रैक ऐप या वेबसाइट बनाएं (Build a courier track app or website)

कूरियर को ट्रैक करने के लिए एक वेबसाइट या ऐप बनाना सबसे  महत्वपूर्ण कदम है, लेकिन कुछ लोगों का मानना है कि वेबसाइट बनाने में स्किल की कमी के कारण यह उनकी समझ से बाहर है। हालांकि यह 2015 में एक बड़ा विषय था। लेकिन आज के समय में वेब तकनीक काफी उन्नत हुई है, जिस की वजह से व्यापार मालिकों के जीवन को बहुत आसान बना दिया गया है।

आपको इन निम्नलिखित कारणों की वजह से अपनी वेबसाइट को विकसित करना बंद नहीं करना चाहिए:

·         किसी भी प्रतिष्ठित व्यवसाय के लिए वेबसाइटों की आवश्यकता होती है। जब आपके व्यवसाय को ऑनलाइन करने की बात आती है, तो इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप किस आकार या उद्योग में हैं।

·         ऑनलाइन नेटवर्किंग प्रोफाइल, जैसे कि फेसबुक पेज या लिंक्डइन कंपनी प्रोफाइल, आपकी खुद की वेबसाइट रखने का विकल्प नहीं हैं।

·         Wix जैसे वेबसाइट बनाने वालों ने एक बुनियादी वेबसाइट बनाने की प्रक्रिया को सरल बना दिया है। एक वेबपेज बनाने के लिए आपको वेब डिजाइन कंपनी या डेवलपर को नियुक्त करने की आवश्यकता नहीं है।

जनसंपर्क, मार्केटिंग और ब्रांडिंग (Public Relations, Marketing, and Branding)

अपनी ब्रांडिंग और मार्केटिंग रणनीति में अपने सोशल मीडिया अकाउंट को शामिल करें, ताकि लोग आपको ढूंढ सकें और देख सकें कि आप इंटरनेट पर क्या कर रहे हैं। अपनी सोशल मीडिया उपस्थिति बनाए रखना भी महत्वपूर्ण है। कस्टमर को ऐसे अकाउंट बिल्कुल भी पसंद नहीं होते हैं, जो दिनों या हफ्तों से अपडेट नहीं किए गये हो। यदि आप ऑनलाइन सक्रिय नहीं दिखते हैं, तो कई ग्राहक मान लेंगे कि आपने अपने काम को बंद कर दिया है।

अपनी यूएसपी पता करें (Discover your Unique Selling Proposition (USP))

एक व्यवसाय के लिए यूएसपी सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है। यह एक ऐसी गुणवत्ता, सर्विस और उत्पाद होता है, जिसे केवल आप ही बाजार में सबसे पहली बार लाते हैं।  जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है। यूएसपी में ऐसा कुछ भी शामिल हो सकता है, जो आपकी फर्म को अलग खड़ा करेगा और आपके ग्राहक आधार को मजबूत करते हुए अतिरिक्त ग्राहकों तक पहुंचने में आपकी सहायता करेगा।

अपने व्यवसाय के लिए फ़ोन सिस्टम सेट करें (Set up a phone system for your business):

अपने काम और घरेलू जिन्दगी को अलग और गोपनीय रखने के लिए एक व्यावसायिक सेल प्राप्त करना सबसे प्रभावी रणनीतियों में से एक है। इसका सिर्फ  यही एकमात्र फायदा नहीं है, इसके साथ ही यह आपके संगठन के स्वचालन में भी सहायता करता है। आपकी कंपनी को संभावित ग्राहकों के लिए ढूंढना और आप तक पहुंचना बहुत आसान बनाता है।

वित्तीय विश्लेषण (Financial Analysis)

स्वाभाविक रूप से,  व्यवसाय के लिए आपको एक प्राइसिंग मॉडल बनाने की आवश्यकता होगी, ताकि उपभोक्ता यह तय कर सकें कि आपके द्वारा निर्धारित की गई सर्विस के पैसों को देना है या नहीं। कूरियर कंपनी शुरू करने से पहले, अपनी स्थानीय प्रतिद्वंद्वियों पर कुछ शोध करें, ताकि आपको इस बात की बेहतर समझ हो कि आपको क्या चार्ज करना चाहिए। यदि आप सेम डे डिलीवरी की पेशकश करते हैं, तो यह स्पष्ट है कि आपको ज्यादा चार्ज लेने की जरूरत होगी, इसलिए आपको अपनी लागतों को सर्विस के हिसाब से समायोजित करना चाहिए।

अपनी प्रदान की जाने वाली सर्विस की कीमत निर्धारित करते समय आपको सभी लागतों को शामिल करना होगा। गैसोलीन या ऑटोमोबाइल रखरखाव की लागत में के बारें में भी अच्छे से विचार करना चाहिए। अधिकांश नई फर्में कैश फ्लो की वजह से संघर्ष करती हैं, इसलिए पहले वर्ष की आय का अनुमान लगाना महत्वपूर्ण है, जिसे आपकी मार्केटिंग रणनीति में स्पष्ट रूप से लिखा जाना चाहिए। इस तरह, आप यह पता लगाने में सक्षम होंगे कि आपको अपने खर्चों को पूरा करने और राजस्व उत्पन्न करने के लिए कितने कार्यों को कितने समय में पूरा करना होगा।

कूरियर व्यवसाय के प्रकार (Types of Courier Business)

इतने सारे विश्वव्यापी ट्रांसपोर्टर निस्संदेह स्टोरेज, परिवहन और गोदाम रसद सेवाओं की खोज करने वाली कंपनियों की सहायता करेंगे। जब कूरियर सेवाओं की बात आती है, तो बहुमुखी प्रतिभा और विविधता की आवश्यकता होती है। यही कारण है कि एक सेवा प्रदाता को एक से अधिक प्रकार की सेवा प्रदान करने की आवश्यकता होगी। जबकि कुछ कूरियर किसी दिए गए स्थान पर एक ही प्रकार की सेवा प्रदान करने में विशेषज्ञ होते हैं, कुछ अन्य सेवाओं के विशेषज्ञ होते हैं और स्थानीय और विश्व स्तर पर कई स्थानों पर वितरित कर सकते हैं। चलिए जानते हैं, कूरियर व्यवसाय कितने प्रकार के होते हैं :

·         अंतर्राष्ट्रीय कूरियर सेवा (International Courier Service): एक कूरियर सेवा जो एक देश से दूसरे देश में माल या दस्तावेजों को ले जाती है, एक अंतरराष्ट्रीय कूरियर सेवा के रूप में जानी जाती है। इसमें सेवा प्रदाता का काम यह सुनिश्चित करना है कि डिलीवरी के लिए परिवहन का सबसे कुशल तरीके के रूप में प्लेन, समुद्री जहाज और बस, ट्रेन जैसे साधनों का उपयोग किया जाता है।

·         सेम-डे एक्सप्रेस कूरियर सेवा (Same-day express courier service): यह एक ऐसी कूरियर सर्विस है, जो उन व्यक्तियों के लिए पेश की जाती है, जिन्हें अंतिम-मिनट या तत्काल शिपमेंट की आवश्यकता होती है। जिसे उसी दिन भेजा और एकत्र किया जाता है। यह सेवा बड़े शहरों में विशेष रूप से महत्वपूर्ण दस्तावेजों के परिवहन के लिए काफी प्रचलित है।

·         रातोंरात कूरियर सेवा (Overnight courier service): यह एक आदर्श सर्विस उन लोगों के लिए होती है, जिन्हें अगले दिन या किसी विशिष्ट समय के भीतर उत्पादों की डिलीवरी की आवश्यकता है। यह सामान आमतौर पर देर रात या अगली सुबह जल्दी कूरियर कंपनी द्वारा पहुंचाया जाता है।

·         पैलेट कूरियर सेवा (Pallet courier service) : यह एक ऐसा समाधान है, जो पैलेट पर उत्पादों को सुरक्षित और तेज़ी से वितरित करता है। यह समाधान ग्राहकों को उचित कीमत पर कम डिलीवरी समय सीमा को पूरा करने में सहायता करता है।

·         वेयर हाउसिंग सेवा (Warehousing service): यह एक ऐसी सेवा है जो व्यवसायों को उनकी सूची और संचालन पर अधिक नियंत्रण रखने की अनुमति देती है। इस प्रकार की सेवा में प्रबंधित भंडारण समाधान, पिक, पैक और प्रेषण सेवाएं, और  भंडारण निगरानी शामिल होगी। ताकि आप अपनी कंपनी और उसकी सूची का रिकॉर्ड रख सकें।

डिलीवरी का प्रूफ देने का महत्व (Importance of Giving Proof Of Delivery)

प्रूफ ऑफ़ डिलीवरी ( पीओडी) एक प्रकार का परिवहन नोटिस होता है, जो यह पुष्टि करता है कि आपके कस्टमर को सही माल प्राप्त हुआ है। जब कोई खरीदार किसी उत्पाद को वापस करने या नुकसान का दावा करने का प्रयास करता है, तो वे इस प्रमाणपत्र का उपयोग करते हैं, जिसे सत्यापन के बिल के रूप में भी जाना जाता है।

पीओडी का सबसे बुनियादी प्रकार तब होता है जब डिलीवरी मैन शिपमेंट की डिलीवरी की तारीख और समय के साथ कंसाइनी से एक हस्ताक्षर एकत्र करता है। ग्राहक का स्थान और शिपमेंट या वस्तुओं का सारांश पीओडी में शामिल किया जाना चाहिए।

निष्कर्ष (Conclusion)

यदि आप ऊपर बताई गई प्रक्रियाओं का पालन करते हैं, तो आप एक लाभदायक नई कूरियर सेवा शुरू करने के रास्ते पर होंगे। अपनी फर्म के लिए भविष्य की संभावनाओं की कल्पना करने की कोशिश करें और जैसे ही आप शुरुआत करेंगे, रणनीतियों का विस्तार होगा। एक व्यवसायी होना न केवल करियर में उन्नति देता है, बल्कि यह व्यक्तिगत प्रगति और सुधार के मामले में भी पर्याप्त संभावनाएं  प्रदान करता है। हम आशा करते हैं कि इस पोस्ट में बताए गए तरीकों का पालन करके और उनका उपयोग करके, आप एक बड़ी कूरियर कंपनी खोल सकेंगे, जो आपके व्यवसाय को आगे बढ़ाने में मदद करेगी। आपको हर संघर्ष में जीत दिलाएगी।

This post is also available in: English हिन्दी

Share:

Leave a comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

Subscribe to Newsletter

Start a business and design the life you want – all in one place

Copyright © 2022 Zocket