2022 केटरिंग गाइड: भारत में केटरिंग व्यवसाय खोलने के लिए ऐसे बनाए बिज़नेस प्लान

Table of Contents

Share this article

भारत सांस्कृतिक रूप से समृद्ध देश है। भारत में कई तरह के त्योहारों, अनुष्ठानों और पारिवारिक समारोहों को बड़े ही धूम-धाम से मनाया जाता है। जब इन त्योहारों, अनुष्ठानों और पारिवारिक समारोहों को बड़े ही उत्साह से मनाया जा रहा होता है, तब इनमें हजारों और लाखों लोगों को एक साथ भोजन परोसने की आवश्यकता होती है। यहीं चीजें केटरिंग व्यवसाय के लिए प्राथमिक बाजार का काम करती है। आज के समय में  केटरिंग व्यवसाय बड़ी तेजी से  बढ़ रहा है, और लोकप्रियता प्राप्त कर रहा है। यदि आप भी केटरिंग व्यवसाय खोलने की योजना बना रहे हैं, तो यहां दी गई केटरिंग गाइड का पालन करें। आपको इस व्यवसाय को खोलने के लिए किन- किन चीजों की जरूरत होगी। सारी बातें समझ आएगी।

भारत में केटरिंग उद्योग का विकास (Growth of the Food Catering Industry in India)

भारत में केटरिंग उद्योग एक विशाल और बढ़ता हुआ व्यवसाय है। यह पारिवारिक कार्यक्रमों, कॉर्पोरेट कार्यालयों और आवासीय परिसरों में खाने के लिए प्रयोग किया जाने वाला बेहतरीन विकल्प है। लोग अधिकतर किसी भी प्रकार के बड़े फंक्शन में खुद से खाना बनाना पसंद नहीं करते हैं। वे यह काम केटरिंग वालों को देते हैं। इसके साथ ही लोग हेल्दी और घर के बने खाने की मांग भी करते हैं। यही वजह है कि आज के समय में केटरिंग व्यवसाय बहुत तेजी से फलने-फूलने लगा है।

फेडरेशन ऑफ इंडियन चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (फिक्की) के अनुसार, भारतीय फूड सर्विस इंडस्ट्री  2022 के अंत तक 5,52,000 करोड़ रुपये को पार करने की उम्मीद है। 10% की स्थिर वार्षिक वृद्धि दर के साथ, केटरिंग उद्योग देश में सबसे अधिक लाभदायक खाद्य उद्योगों में से एक बन जाएगा।

इसके अतिरिक्त,  इंटरनेट और स्मार्टफोन के उपयोग ने भी केटरिंग व्यवसाय को और ज्यादा बड़ा दिया है।  इन चीजों ने ग्राहकों तक खाने का सामान पहुचाने को सरल बना दिया है। इसने लागत को कम किया है और मूल्य में वृद्धि की है। एक और बड़ा प्रभाव फूड डिलीवरी का केटरिंग व्यवसाय पर पड़ा है। वो है कहीं से बैठकर अपने लिए फूड ऑडर करना।  डिलीवरी के तेज़ और व्यापक दायरे ने देश में कहीं से भी खाना ऑर्डर करना सरल बना दिया है। तेजी से हो रहे शहरीकरण के साथ, घनी आबादी वाले इलाकों में फूड केटरिंग सर्विस आज के समय में व्यक्ति की जरूरत बन गई है। केटरिंग उद्योग के लिए अपार्टमेंट, मॉल और कार्यालय परिसर आदि सबसे प्रमुख बाजार हैं।

केटरिंग व्यवसाय के प्रमुख प्रकार (Types of  the Catering Businesses)

 इससे पहले कि आप अपने केटरिंग व्यवसाय की योजना बनाना शुरू करें।  उससे पहले आप अपने व्यापार के लिए एक शानदार जगह का चुनाव करें। हमेशा किसी भी तरह के बिज़नेस की शुरुआत करने लिए आपको एक विशेष स्थान का चयन करके ही  शुरुआत करनी चाहिए। केटरिंग का उद्योग एक बड़ा व्यवसाय है। यह विभिन्न क्षेत्रों में कार्य करता है। इसके प्रत्येक क्षेत्र को उप-विभाजित किया जा सकता है। अब अपनी सहूलियत के अनुसार इनका चुनाव कर सकते हैं। इसके अतिरिक्त, यदि आप किसी विशेष प्रकार की श्रेणी के लिए यह व्यवसाय करना चाहते हैं, तो भी आप इस पर ध्यान केंद्रित करके आप इसे सुव्यवस्थित कर सकते हैं। यह बदले में आपके लक्षित समूह को तेजी से बड़ी संख्या में आकर्षित करता है। यहाँ कुछ सबसे प्रमुख केटरिंग व्यवसाय करने के स्रोतों के बारे में बताया गया है :

·         शादियां

·         त्यौहार और ख़ास अवसर

·         फॉर्मल इवेंट

·         टिफिन सेंटर

·         ऑफिस मेस

·         कॉर्पोरेट पार्टियां

·         जन्मदिन की पार्टियां

आप अपनी सेवा में विविधता भी ला सकते हैं, और कई प्रकार की श्रेणियों को भी शामिल कर सकते हैं। हालांकि, अन्य प्रकार की  श्रेणियों को शामिल करने के लिए आपके पास विशेषज्ञता होनी चाहिए। 

केटरिंग व्यवसाय के लिए बिज़नेस प्लान बनाना (Creating a Business Plan for Catering)

एक व्यवसाय योजना बनाना आपके व्यवसाय के विकास के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है। जबकि यह योजनाएं हर प्रकार की श्रेणी के लिए अलग अलग हो सकती है। लेकिन कुछ मूलभूत कदम है, जो सभी श्रेणियों में समान रहेंगे। एक व्यवसाय योजना आपको अपना व्यवसाय सुचारू रूप से स्थापित करने, सामान्य कमियों का पूर्वाभास करने और उनके लिए तैयारी करने में मदद करेगी। केटरिंग का व्यवसाय एक अनूठा उद्यम है। यहां, आपकी रसोई की गुणवत्ता से लेकर आपके ब्रांड की मार्केटिंग तक सब कुछ का बड़ा प्रभाव ग्राहकों पर पड़ता है।

सर्टिफिकेशन प्राप्त करें (Obtain Certification)

खाद्य उद्योग तभी आगे बढ़ता है, जब इसमें योग्य पेशेवर लोग काम कर रहे हों। यदि आप किचिन का नेतृत्व कर रहे हैं, तो आपको प्रोफेशनल कलिनरी ट्रेनिंग में प्रशिक्षण प्राप्त करना चाहिए। यह आपको अपने ग्राहकों को बेहतर सेवा देने के लिए प्रोफेशनल टूल से लैस करेगा।

पूरे देश में फूड इंडस्ट्री से जुड़े 12 से 18 महीने तक के कई डिप्लोमा कोर्स उपलब्ध हैं। हालाँकि, आप मैनेजमेंट के पहले पायदान पर काम करना चाहते हैं, तो आपको  हॉस्पिटैलिटी मैनेजमेंट  से जुड़ा हुआ एक सर्टिफिकेशन वाला डिप्लोमा करना चाहिए।  मैनेजमेंट से जुड़े हुए डिप्लोमा आमतौर पर कम अवधि के होते हैं और इन्हें आसानी से प्राप्त किया जा सकता है।

हॉस्पिटैलिटी  मैनेजमेंट से जुड़ा हुआ सर्टिफिकेट आपकी विश्वसनीयता को एक आगे के पायदान पर खड़ा कर देगा। यह मार्केटिंग और ब्रांड पोजिशनिंग के लिए एक शानदार टूल के रूप में भी काम करता है। व्यवसाय योजना में उल्लिखित किसी भी प्रकार के सर्टिफिकेट से बैंकों से लोन मिलने की संभावना बढ़ जाती है। हालाँकि, आपके पास खाद्य उद्योग में अनुभव बहुत ज्यादा है, तो यह आपकी योजना के केंद्र बिंदु के रूप में भी काम कर सकता है।

उद्योग और प्रतिस्पर्धियों के बारे में विश्लेषण (Industry and Competitor Analysis)

एक मजबूत उद्योग विश्लेषण से पता चलता है, कि आप इस व्यवसायों के रुझानों और प्रतिस्पर्धा से अच्छी तरह वाकिफ हैं। उद्योग विश्लेषण एक व्यवसाय योजना में देखी जाने वाली सबसे पहली चीजों में से एक है। किसी उद्योग की गतिशीलता और उसके कार्य करने के तरीके को समझकर, आप अपने बिज़नेस प्रापज़िशन के मूल्य में इसे जोड़ सकते हैं। SWOT या PEST विश्लेषण के माध्यम से, आप इस उद्योग में किस चीज का गेप है, यह मालूम कर सकते हैं। उस गेप को अपने बिज़नेस प्लान में जोड़ सकते हैं।  अपने प्रतिस्पर्धियों की कंपनी के बारें में  गहन रिर्सच करके आप  स्मार्ट रणनीति बना सकते हैं।

इसलिए, अपने क्षेत्र के केटरिंग बिज़नेस करने वाले प्रमुख खिलाड़ियों की पहचान करके अपने व्यवसाय की शुरुआत करें। अपने प्रतिद्वंद्वी के लक्षित दर्शकों, संचालन की अनुमानित लागत, कर्मचारियों की संख्या और व्यवसाय मॉडल की रूपरेखा तैयार करें। इससे आपको प्रतिस्पर्द्धा का पूरा अंदाजा हो जाएगा। उनकी कमजोरियों की पहचान करके, आप उसका फायदा उठा सकते हैं और अपने लक्षित समूह को बेहतर सेवा प्रदान कर सकते हैं।

आपूर्तिकर्ता और रसद वालों की खोज  (Scouting Suppliers and Logistics)

यदि आप किसी विश्वसनीय आपूर्तिकर्ता से अपने खाने-पीने का सामान लेते हैं, तो इससे आपके केटरिंग बिज़नेस की गुणवत्ता निर्धारित होगी। एक फूड सर्विस के रूप में, आपको अच्छी गुणवत्ता वाले आपूर्तिकर्ताओं की आवश्यकता होगी। जो समय से आपको कच्चा माल और तैयार माल देता रहे। आपूर्ति और रसद श्रृंखला  वालों के साथ अपने प्रोफेशनल रिश्तों को मजबूत करने और साझेदारी बनाने के लिए कुछ समय निकालें। आपसे अच्छी तरह से जुड़ा लॉजिस्टिक नेटवर्क खाना बनाने से लेकर उसकी डिलीवरी तक के सारे कामों को सुचारू रूप  से चलाएगा। इसमें किसी तरह की देरी नहीं होने देगा। जब सारी प्रक्रिया बिना रुकावट के होगी, तो ग्राहकों में संतुष्टि बढ़ेगी और अधिक ग्राहक आकर्षित होंगे।

वित्तीय योजना (Financial Planning)

एक अच्छी वित्तीय योजना आपके व्यवसाय को सफल बना सकती है। वहीँ दूसरी ओर अव्यवस्थित वित्तीय योजना आपके व्यवसाय को संघर्षशील बना देती है। आपके द्वारा तय की गई लागत में कहीं भी कोई कमी रहती है, या यह कम पड़ती है तो यह आपके व्यवसाय के लिए हानिकारक हो सकती है। वित्तीय योजना बनाते समय आपको स्थान, उपकरण, इन्वेंट्री, कार्यबल, मार्केटिंग, लॉजिस्टिक्स आदि को ध्यान में रखना होगा। चूंकि केटरिंग व्यवसाय में प्राइम लोकेशन एक अनिवार्य कारक नहीं है। आप कहीं से भी खाना बनाकर अपने ग्राहकों तक पहुंचा सकते हैं।  एक अनुमान के मुताबिक आपको 25 से अधिक ग्राहकों की सेवा के लिए न्यूनतम 100 वर्ग फुट की रसोई या जगह की आवश्यकता होगी।

उपकरणों की सूची केटरिंग व्यवसाय के अनुसार अलग-अलग होती है। हालांकि, ओवन, परोसने वाले बर्तन, चाय/कॉफी चेम्बर, डिस्पोजेबल कंटेनर, प्लास्टिक रैप, कटलरी इत्यादि जैसे सामान्य उपकरण की आवश्यकता हर तरह के केटरिंग व्यवसाय में होती है। इसके बाद, आपको अपने व्यवसाय के लिए कितने लोगों की जरूरत होगी। इस बारे में पता लगाए। जैसे  शेफ, हेल्पर्स और डिलीवरी कर्मी आदि। एक अनुमान के अनुसार केटरिंग व्यवसाय शुरू करने से पहले आपको कम से कम 20 लाख रुपए तक की आवश्यकता होगी। आप अपने व्यवसाय के लिए बैंक से लोन भी ले सकते हैं। यह कदम पैसों के मामले में बहुत मदद करेगा।

भारत में केटरिंग व्यवसाय शुरू करने के लाइसेंस (Licenses Required for a Food Catering Business)

सभी प्रकार के फूड से जुड़े हुए व्यवसायों को करने के लिए आपको FSSAI के आदेशों और परमिट में दिए गये नियमों का कड़ाई से पालन करने की आवश्यकता होती है। यह व्यवसाय शुरू करते समय तो आपको केवल FSSAI पंजीकरण की आवश्यकता होती है। यह आपको एक FSSAI नंबर देगा। एक बार आपका टर्नओवर 12 लाख, से अधिक हो जाता है,तो फिर आपको फूड लाइसेंस और अन्य परमिट के लिए आवेदन करना होगा। केटरिंग व्यवसाय शुरू करने के लिए जिन लाइसेंसों की आवश्यकता होती है, उनकी सूची यहां दी गई है:

·         FSSAI लाइसेंस (FSSAI license): फूड लाइसेंस तभी दिए जाते हैं जब कोई व्यवसाय सख्त मानदंडों का पालन करता है। इसमें बाहरी प्रदूषकों से दूरी, स्वच्छता, साफ-सफाई और गंदगी जैसे पैरामीटर का पूरी तरह से ध्यान रखा जाना चाहिए। यह अत्यंत महत्वपूर्ण हैं।

·         अग्निशमन विभाग से एनओसी (NOC from Fire Department): जिस जगह पर खाना बनाया जाता है, यदि वहां पर अचानक से आग लग जाती है, तो आग बुझाने का सामान भी आपके पास होना चाहिए। तभी आपको इस विभाग से एनओसी मिलेगी।

·         जीएसटी पंजीकरण (GST Registration): अपने व्यवसाय के लिए आपको एक जीएसटी नंबर की जरूरत होती है। जिसे आप चार्टर्ड एकाउंटेंट के माध्यम से मानक व्यापार पंजीकरण करना होता है।

·         खाद्य प्रतिष्ठान लाइसेंस (Food Establishment License): यह सभी फूड केटरिंग सर्विस के लिए अनिवार्य लाइसेंस है। एक राज्य स्वास्थ्य निरीक्षक आकर आपके कार्यक्षेत्र को चेक करता है। हर चीज सही पाई जाने के बाद इसे संचालित करने की मंजूरी देता है।

·         सीवेज लाइसेंस (Sewage License): यह लाइसेंस पाने के लिए यह सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक है कि आपके संगठन में काम करने वाले सभी श्रमिक 18 वर्ष से ऊपर के हैं।

·         गुणवत्ता और स्वास्थ्य आश्वासन (Quality Assurance & Health Assurance): उच्चतम खाद्य गुणवत्ता सुनिश्चित करने के लिए यह आवश्यक लाइसेंस है।

·         शराब लाइसेंस (वैकल्पिक) (Liquor License (Optional): यदि आपका व्यवसाय आयोजनों या समारोहों में शराब परोसता है, तो इस लाइसेंस की आवश्यकता होती है।

·         जल लाइसेंस (Water License): यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपके खानपान व्यवसाय में केवल स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराया जाए।

आपको अपने व्यवसाय के प्रकार और रसद के आधार पर अलग से लोजिस्टिक्स  परमिट की आवश्यकता हो सकती है।

केटरिंग व्यवसाय के लिए बनाए मजबूत मार्केटिंग योजना (Create a Strong Marketing Plan)

अपना कैटरिंग व्यवसाय शुरू करने के बाद एक महत्वपूर्ण कदम है, अपने व्यवसाय को बढ़ावा देने के लिए सभी उपलब्ध मार्केटिंग चैनलों का उपयोग करना। आपके व्यवसाय को आगे बढ़ाने और नए ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए मार्केटिंग आवश्यक है। सबसे पहले आप अपने व्यवसाय की यूएसपी की पहचान करें। उसके बाद ही यूएसपी के चारों ओर एक मार्केटिंग अभियान बनाएं। केटरिंग व्यवसाय के लिए, निम्नलिखित मार्केटिंग चैनल सबसे उपयुक्त हैं:

·         मौखिक मार्केटिंग (Word of Mouth):  जब एक जगह आपके द्वारा दी गई सर्विस से लोग संतुष्ट होते हैं, तो वो अपने जान-पहचान वालों को आपके बारें में बताते हैं। यही मौखिक मार्केटिंग कहलाती है। आपके ग्राहक ही आपके मार्केटिंग चैनल के रूप में भी काम करते हैं। यह सबसे शक्तिशाली मार्केटिंग रणनीतियों में से एक है। 

·         नेटवर्किंग (Networking): अपने केटरिंग व्यवसाय को बढ़ाने के लिए प्रदर्शनियों, कार्यक्रमों और फूड फेस्टिवल में भाग लें। इससे आप नेटवर्क बनाने और अन्य उद्योग के प्रोफेशनल लोगों से मिलने में सक्षम होंगे। B2B डोमेन में अपने ब्रांड को बढ़ावा देने के लिए यह बहुत ही जरूरी कदम है। ऐसी जगहों पर आपको  बड़े पैमाने पर कॉर्पोरेट ऑर्डर भी मिल सकता है।

·         सोशल मीडिया (Social Media): यहीं पर आपके बिज़नेस की यूएसपी काम आती है। सोशल मीडिया पर दिलचस्प इन्फोग्राफिक्स, पोस्टर और आकर्षक सामग्री बनाकर, आप एक ख़ास वर्ग और लोगों को लक्षित कर सकते हैं। SEO और SMM के माध्यम से, आप हजारों लीड और ग्राहक उत्पन्न कर सकते हैं। यही वजह है की व्यवसाय के लिए इंटरनेट और सोशल मीडिया शक्तिशाली मार्केटिंग टूल हैं।

केटरिंग व्यवसाय की सफल कहानियां (Catering Business Success Stories)

केटरिंग व्यवसाय में नाम कमाने वाले ऐसे कई उद्यमियों की सफलता की कहानियां हैं, जिन्होंने प्रसिद्ध फूड ब्रांड बनाए है। यहां तक कि जो लोग एफ एंड बी उद्योग से संबंधित नहीं हैं, उन्होंने भी केटरिंग व्यवसाय में क्रांति ला दी है।

सोडाबोटल ओपनरवाला : शेफ अनाहिता धोंडी की कहानी प्रेरणादायक है। पुरुष-प्रधान उद्योग में, उन्होंने सोडाबोटल ओपनरवाला के उल्लेखनीय फूड ब्रांड की स्थापना की। उनके रेस्तरां दिल्ली के सबसे लोकप्रिय रेस्तरांयों में से एक है। इनके लीडरशिप के नीचे ही इस व्यवसाय ने तरक्की की है।

डोसा इंक :  ज्योति गणपति जिन्होंने डोसा इंक की शुरुआत की है।  इनका फूड ट्रक दिल्ली में सर्वश्रेष्ठ दक्षिण भारतीय व्यंजन परोसने के लिए प्रसिद्ध है। ज्योति को एफ एंड बी उद्योग में कोई अनुभव नहीं था, फिर भी उन्होंने एक घरेलू पसंदीदा नुस्खे को एक लाभदायक उद्यम में बदल दिया।

आप महिला उद्यमियों के बारे में ऐसी कई प्रेरक सफलता की कहानियों के बारे में यहाँ पढ़ सकते हैं। (https://zocket.com/blog/hi/ideas/side-business-ideas-for-ladies/)

केटरिंग ट्रेनिंग और पाठ्यक्रम (Catering Training & Courses)

आपके केटरिंग व्यवसाय की यात्रा शुरू करने में आपकी मदद करने के लिए, यहां कुछ उपयोगी प्रशिक्षण संसाधनों के बारे में बताया गया है:

·         खाद्य सुरक्षा ट्रेनिंग और सर्टिफिकेशन (एफओएसटीएसी)

·         होटल मैनेजमेंट में बीबीए

·         होटल मैनेजमेंट  में डिप्लोमा

·         केटरिंग साइंस में बीएससी

·         होटल मैनेजमेंट में स्नातक/परास्नातक

निष्कर्ष (Conclusion)

फूड और हॉस्पिटैलिटी उद्योग भारत और विश्व में सबसे तेजी से बढ़ते उद्योगों में से एक है। बिना किसी अनुभव के केटरिंग व्यवसाय शुरू करना बिल्कुल भी सही कदम नहीं है। यह आपके व्यवसाय की नैया को डुबो भी सकता है। हालांकि, उचित प्रशिक्षण, अनुसंधान, योजना और निष्पादन के साथ आप देश के कुछ सबसे सफल फूड ब्रांड बना सकते हैं।

This post is also available in: English हिन्दी

Share:

Leave a comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

Subscribe to Newsletter

Start a business and design the life you want – all in one place

Copyright © 2022 Zocket